Yes Bank Fraud Case में DHFL के Promoter वधावन बंधु हुए गिरफ्तार

|

Updated: 27 Apr 2020, 10:56 AM IST

  • महाराष्ट्र के सतारा जिले के महाबलेश्वर से Arrest हुए वधावन बंधु
  • CBI Court ने दोनों के खिलाफ जारी किए थे गैर-जमानती वारंट

नई दिल्ली। यस बैंक धाखाधड़ी ( Yes Bank Fraud Case ) मामले में केंद्रीय जांच ब्यूरो यानी सीबीआई ( CBI ) ने दीवान हाउसिंग फाइनेंस लिमिटेड ( Dewan Housing Finance Ltd ) के प्रमोटर कपिल वधावन ( Kapil Wadhawan ) और उनके भाई धीरज वधावन ( Dheeraj Wadhawan ) को गिरफ्तार कर लिया गया है। सीबीआई अदलत ( CBI Court ) की ओर से दोनों भाईयों के खिलाफ गैर जमानती वॉरंट जारी किया थ। दोनों को महाराष्ट्र के सतारा जिले के महाबलेश्वर से किया गया है। जानकारों की मानें तो वधावन बंधुओं की गिरफ्तारी से कंपनी के शेयरों में गिरावट देखने को मिल सकती है। सीबीआई ने यस बैंक ( Yes Bank ) के खिलाफ धोखाधड़ी के मामले में सात मार्च को कपिल और धीरज के खिलाफ मामला दर्ज किया था। यस बैंक के तत्कालीन सीईओ राणा कपूर और अन्य मामले में आरोपी हैं।

क्या कहते हैं सीबीआई के अधिकारी
सीबीआई प्रवक्ता आरके गौड़ के अनुसार सीबीआई को 9 अप्रैल को सतारा जिले में दोनों अभियुक्तों की उपस्थिति के बारे में जानकारी मिली थी। वे पंचगनी में एक सरकारी संस्थागत क्वारंटीन सेंटर में थे। उन्होंने बताया, इसके बाद जिला मजिस्ट्रेट और पुलिस अधीक्षक सतारा को सीबीआई या अदालत के आदेश के बिना एनओसी (अनापत्ति प्रमाण पत्र) जारी नहीं करने और आरोपी व्यक्तियों को फरार होने से रोकने के लिए अन्य आवश्यक कदम उठाने के लिए एक ईमेल भेजा गया था।

600 करोड़ रुपए का मामला
यस बैंक के संस्थापक राणा कपूर के साथ चल रहे मामले की सीबीआई जांच में पता चला है कि उन्हें और उनके परिवार के सदस्यों को डीएचएफएल के प्रमोटर कपिल वधावन द्वारा बिल्डर लोन की आड़ में 600 करोड़ रुपए का भुगतान किया गया था। यह अप्रैल 2018 से राणा कपूर, वधावन और अन्य के बीच यस बैंक लिमिटेड द्वारा डीएचएफएल को वित्तीय सहायता प्रदान करने के लिए आपराधिक साजिश का हिस्सा था।

राणा कपूर के दिल्ली में तीन बंगले
राणा कपूर की पत्नी बिंदू मुख्य निवेश और राणा कपूर से जुड़ी कंपनियों में निदेशक थीं, जिनमें मॉर्गन क्रेडिट्स, यस कैपिटल (इंडिया), आरएबी व अन्य शामिल हैं। बताया जा रहा है कि अकेले दिल्ली में ही राणा कपूर के पास कथित रूप से तीन बंगले हैं। इनमें से कुछ कंपनियों के नाम सीबीआई की एफआईआर में रखे गए हैं, जिनमें डीएचएफएल का भी नाम है।

सीबाआई की एफआईआर में कई नाम शामिल
सीबीआई की एफआईआर में नाम राणा कपूर, उनकी पत्नी बिंदू राणा कपूर (आरएबी एंटरप्राइजेज के तत्कालीन निदेशक) और उनकी बेटियों रोशनी कपूर (मॉर्गन क्रेडिट्स प्राइवेट लिमिटेड और डॉयट अर्बन स्ट्राइक की निदेशक), राखी कपूर टंडन (मॉर्गन क्रेडिट्स प्राइवेट लिमिटेड की निदेशक) और राधा कपूर खन्ना (मॉर्गन क्रेडिट्स प्राइवेट लिमिटेड और डूइट अर्बन वेंचर्स की निदेशक) के नाम शामिल हैं।