Power cut : मंगलवार को कोटा के कई इलाकों में बंद रहेगी बिजली...

|

Published: 27 Jul 2020, 08:56 PM IST

अकेलगढ़ में फाल्ट आने से सुबह से शाम 4 बजे तक जलापूर्ति बाधित

सुबह 9.30 से दोपहर 12.30 बजे तक : थेकड़ा, देवली अरब रोड, बोरखेड़ा फार्म, संतोषनगर, प्रताप नगर, पाŸवनाथ नगर, आदर्श नगर, मोहनधाम, मोतीनगर, शिवपुरी धाम, हॉली फैमिली अस्पताल, एकता नगर, मिलाट नगर, बालाजी आवास, श्याम विहार।

सुबह 10 से दोपहर 1 बजे तक : सकतपुरा व आसपास का क्षेत्र, माला रोड, राम मंदिर, गुरुद्वारा, हाट रोड, जैन मंदिर, पोस्ट ऑफिस रोड, मयूर कॉलोनी, एमबीएस नगर, एसबीआई बैंक के आसपास, रणजीत कॉलोनी, बजरिया, स्टेशन रोड, अर्जुन गली, कासिम गली, भीमगंजमंडी थाने के पीछे का क्षेत्र, दानमलजी का आहता, जनकपुरी, आदर्श नगर, रेलवे सोसायटी, इंदिरा कॉलोनी, मदर टैरेसा होम, मिलेट्री एरिया, आदर्श कॉलोनी, गोविन्द कॉलोनी, माचिस फैक्ट्री, डडवाड़ा, विजयवर्गीय मैरीज हॉल के आसपास।

सुबह 10 से दोपहर 2 बजे तक : कृष्णा रेजीडेंसी, गिरिराज धाम, लॉर्ड कृष्णा स्कूल, सोगरिया के आसपास।


सुबह से शाम 4 बजे तक जलापूर्ति बाधित

कोटा. रावतभाटा रोड स्थित अकेलगढ़ जल शोधन केन्द्र स्थित जीएसएस में सोमवार को मेजर फाल्ट आ गया। इससे शोधन केन्द्र से जलापूर्ति वाले क्षेत्रों में सुबह 10 से शाम 4 बजे तक जलापूर्ति बाधित रही।

अचानक नलों में पानी बंद होने से लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ा। जिन क्षेत्रों में सुबह की पारी में जलापूर्ति की जाती है, उन इलाकों में लोग नल आने का इंतजार करते रहे। पुराने कोटा क्षेत्र में भी जलापूर्ति प्रभावित रही। पुराने कोटा के अधिकतर इलाकों में 24 घंटे नल आते हैं, लेकिन सोमवार सुबह से ही नल नहीं टपके तो लोगों की मुश्किल बढ़ गई।
छावनी निवासी देवेश तिवारी ने बताया कि अचानक जलापूर्ति बंद होने से लोग पीने का पानी भी नहीं भर सके। थोड़ी ही देर में टंकियों का पानी भी रीत गया। इससे घर की जरूरत के पानी की किल्लत हो गई। उन्होंने कहा कि छावनी क्षेत्र में कम दबाव से पानी की समस्या है। पहले भी बिना सूचना के जलापूर्ति बंद रहने से क्षेत्रवासियों को परेशानी उठानी पड़ी है।

अकेलगढ़ स्थित जीएसएस में 33 केवी लाइन में सुबह मेजर फाल्ट आ गया था। इससे जम्पर उड़ गए थे। सुबह करीब 11 बजे तक उनकी मरम्मत करवाकर पम्प चालू किए गए, इसके बाद जलापूर्ति की गई।

सोमेश मेहरा, अधीशासी अभियंता, जलदाय विभाग