Flood in Chambal : भारी बरसात, बाढ़ ग्रस्त कोटा-बारां में हाहाकार

|

Updated: 04 Aug 2021, 01:57 PM IST

-चम्बल के बांधों में पानी की भारी आवक, जवाहर सागर व कोटा बैराज से पानी की भारी मात्रा में निकासी हो रही है, कोटा से लेकर धौलपुर तक चम्बल नदी का खतरा बढ़ा
-चम्बल की सहायक नदियां खतरे के निशान के उपर चल रही है
-इटावा, सुल्तानपुर व बारां के शाहबाद-किशनगंज में बाढ़ के हालात
-रोडवेज बस नाले के बहाव में फंसी, बस सवार सभी 40 यात्रियों को सकुशल बाहर निकाला


Breaking Live Update-
-चम्बल के बांधों में पानी की भारी आवक, जवाहर सागर व कोटा बैराज से पानी की भारी मात्रा में निकासी हो रही है, कोटा से लेकर धौलपुर तक चम्बल नदी का खतरा बढ़ा
-कोटा बैराज के दस गेट खोलकर 78 हजार 848 क्यूसेक पानी निकासी
-जवाहर सागर बांध के छह गेट खोलकर 77 हजार क्यूसेक पानी की निकासी
-चम्बल की सहायक नदियां खतरे के निशान के उपर चल रही है
-इटावा, सुल्तानपुर व बारां के शाहबाद-किशनगंज में बाढ़ के हालात

-कोटा-बारां में चहुंओर बचाने की पुकार, सेना की मदद का इंतजार

-भवानीमंडी (झालावाड़)में नदी में दो युवक बहे

-केशवरायपाटन : 7 लोग मिट्टी में दब गए

-भारी बारिश के चलते रेलगाड़ियां प्रभावित

कोटा.
पिछले तीन दिन से बाढ़ की चपेट में आए कोटा-बारां के शहरी क्षेत्र व गांवों में हाहाकार मच गया है। कोटा के इटावा-सुल्तानपुर, बारां के शाहबाद-किशनगंज क्षेत्र में चहुंओर बचाने की पुकार सुनाई दे रही है। कोटा शहर व बारां शहर के बाजार व कॉलोनियां पानी से लबालब हो रखी है। घरों व दुकानों में पानी घुसने से जनजीवन ठप हो गया है। बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में एसडीआरएफ एवं अन्य बचाव दल रेस्क्यू में जुटे हैं। बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में स्थानीय प्रशासन को सेना की मदद का इंतजार है। सरकार ने सेना को मदद के लिए आग्रह किया है। उम्मीद है कि बाढ़ प्रभावितों की मदद के लिए सेना का रेस्क्यू ऑपरेशन जल्द शुरू किया जाएगा।

तेज बहते नाले में अटकी बस, 40 यात्रियों को सकुशल बाहर निकाला-
इटावा के निकट बरसाती नाले में पानी के तेज बहाव से गुजरने के दौरान कोटा आगार की रोडवेज बस फंस गई। बस के पानी में अटकते ही यात्रियों की जान सांसत में आ गई। बस चालक की सुझबुझ से सभी 40 यात्रियों को चालक द्वार से नीचे उतार की नाले की पाल तक पहुंचाया गया।

नदी में दो युवक बहे-
भवानीमंडी (झालावाड़) . बाइक सवार 2 युवक बाइक समेत नदी में बहे, रपट को पार करने के दौरान हुआ हादसा, रपट पर था डेढ़ फीट पानी, एमपी-राजस्थान पुलिस प्रशासन ने युवकों को ढूंढने के लिए चलाया रेस्क्यू ऑपरेशन।

भारी बारिश के चलते रेलगाड़ियां प्रभावित-

कोटा. कोटा मंडल के कोटा सवाईमाधोपुर रेलखंड के मध्य रेलवे ट्रैक के ऊपर बारिश का पानी आ जाने के कारण रेल संरक्षा एवं यात्री सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए रेल प्रशासन ने 4 अगस्त 2021 को जयपुर से रवाना होकर मुंबई सेंट्रल की ओर जाने वाली गाड़ी 02956 को (जो वाया सवाईमाधोपुर से आती है) को परिवर्तित मार्ग अजमेर-चित्तौड़गढ़-कोटा-नागदा होकर चलाने का निर्णय लिया है.

इसके अलावा 3 अगस्त 2021 को देहरादून से चलकर कोटा की ओर आने वाली गाड़ी संख्या 02402 को सवाईमाधोपुर में शॉर्ट टर्मिनेट किया गया है अर्थात यह रेलगाड़ी सवाई माधोपुर से कोटा के बीच आज 4 अगस्त को आंशिक रूप से निरस्त रहेगी ।

इसी के परिणाम स्वरूप रैक के अभाव में 4 अगस्त 2021 को कोटा से चलकर देहरादून जाने वाली गाड़ी संख्या 02401 भी कोटा से सवाई माधोपुर के मध्य आंशिक रूप से निरस्त रहेगी । यह ट्रेन आज 4 अगस्त को सवाई माधोपुर से देहरादून के बीच चलाई जाएगी ।

केशवरायपाटन : 7 लोग मिट्टी में दब गए

बूंदी - चंबल नदी के किनारे केशवरायपाटन कस्बे में टीले के नीचे बसे दो केवट समाज के परिवार के मकानों पर ऊपर से मिट्टी व जर्जर दीवार गिरने से हादसा हो गया। हादसे में केवट समाज के 7 लोग मिट्टी में दब गए, जिसमें से दो को निकाल लिया। जिला कलक्टर, पुलिस अधीक्षक, वृताअधिकारी व स्थानीय प्रशासन रेस्क्यू में जुट गया। अभी मलवे में 5 जने दबे होने की आशंका है। दो में से एक की मृत्यु हो गई है, एक का उपचार किया जा रहा है। यह हादसा प्रशासन की लापरवाही से हुआ है। लंबे समय से पुराने थाने की दीवार जर्जर पड़ी हुई थी। पास में ही पुराने चिकित्सालय की जर्जर दीवार थी। रात को गहरी नींद में सो रहे थे कि अचानक पुराने थाने की जर्जर दीवार का मलवा पट्टियों सहित गरीब परिवारों के घरों के ऊपर गिर गई। जिससे हादसा हुआ।

सुल्तानपुर (कोटा)
-भारी बारिश से लगातार हालात बेकाबू
-बनेठिया के बाद अब डुंगरज्या कमल सरोवर तालाब की टूटी पाल
-बड़ी मात्रा में तालाव से हो रहा पानी का रिसाव