कोटा में खुलेगा आयुर्वेद, योग व प्राकृतिक चिकित्सा एकीकृत महाविद्यालय

|

Published: 18 Jun 2021, 11:48 AM IST

कोटा में आयुर्वेद, योग व प्राकृतिक चिकित्सा एकीकृत महाविद्यालय खुलेगा। इसके लिए तलवंडी स्थित राजकीय वैद्य दाऊदयाल जोशी जिला आयुर्वेदिक चिकित्सालय के पीछे खाली पड़ी जमीन को चिह्नित किया है।

 

कोटा. कोटा में आयुर्वेद, योग व प्राकृतिक चिकित्सा एकीकृत महाविद्यालय खुलेगा। इसके लिए तलवंडी स्थित राजकीय वैद्य दाऊदयाल जोशी जिला आयुर्वेदिक चिकित्सालय के पीछे खाली पड़ी जमीन को चिह्नित किया है। यहां करीब 10 एकड़ में यह महाविद्यालय बनेगा। यह हाड़ौती का पहला महाविद्यालय होगा।
भारतीय आयुर्वेदिक व चिकित्सा विभाग जयपुर के विशेषाधिकारी डॉ. मनोहर पारीक ने गुरुवार को इस महाविद्यालय के लिए जमीन को देखा। उन्होंने बताया कि महाविद्यालय के लिए यह जमीन उपयुक्त है। यहां करीब दस एकड़ में यह महाविद्यालय बनेगा। साथ ही अस्पताल भी बनेगा। राज्य सरकार ने इस महाविद्यालय के लिए हाल ही में सैद्धांतिक सहमति दी है। जमीन तलाशने के बाद अब इसके निर्माण के लिए पीडब्ल्यूडी व अन्य संस्थाओं से प्रस्ताव बनाकर वित्त विभाग को भिजवाया जाएगा। वहां से राशि जारी होगी। गौरतलब है कि यह महाविद्यालय मुख्यमंत्री के बजट घोषणा में शामिल है। नगरीय विकास मंत्री शांति धारीवाल व चिकित्सा मंत्री रघुशर्मा भी इसके लिए प्रयासरत रहे है। उनके प्रयासों से ही कोटा में यह महाविद्यालय खुलने जा रहा है।

अस्पताल होगा, अपग्रेड करेंगे
कॉलेज के पहले बैच को अगले साल 2022 तक चालू करने की योजना है। कोविड के चलते सरकार जल्द कॉलेज को चालू करवाना चाहती है। बैच चालू करने से पहले 12 माह से लेकर 2 साल तक अस्पताल का चालू होना जरूरी होता है। कोटा को यह फायदा मिल गया है कि यहां काफी सालों से वैद्य दाऊदयाल जोशी जिला आयुर्वेदिक अस्पताल संचालित है। कॉलेज व अस्पताल के बनने तक पुराने अस्पताल को अपग्रेड किया जाएगा। जिससे यहां जल्द बैच शुरू किया जा सके। यहां पहले से ही 30 लाख की लागत से योग भवन बना हुआ है। इसमें पहले ओपीडी चालू की जाएगी।

शैक्षिक व अशैक्षिक 125 पदों की स्वीकृति

डॉ. पारीक ने बताया कि कॉलेज के लिए शैक्षिक व अशैक्षिक 125 पदों के लिए वित्त विभाग से सैद्धांतिक मंजूरी भी मिल चुकी है।