कोरोना के कहर से बचने राजस्थान में लेंगे 105 ऑक्सीजन प्लांट

|

Updated: 14 May 2021, 11:37 PM IST

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के निर्देश पर राज्य के 59 नगरीय निकाय क्षेत्रों में प्रथम चरण में 105 ऑक्सीजन प्लांट लगाए जाएंगे। स्वायत्त शासन विभाग की 48 निकायों में 58 प्लांट लगेंगे। नगरीय विकास विभाग के माध्यम से 47 प्लांट लगेंगे।

कोटा. कोटा सहित राज्य में 59 निकायों को ऑक्सीजन की उपलब्धता में आत्मनिर्भर बनाने के लिए प्रयास चल रहे हैं। कोटा के निजी अस्पतालों में भी ऑक्सीजन प्लांट लगाए जाएंगे। निकट भविष्य में कोटा मेडिकल कॉलेज के सभी अस्पतालों में पर्याप्त क्षमता के ऑक्सीजन प्लांट स्थापित होंगे। सरकार ने इसके निर्देश जारी कर दिए हैं। स्वायत्त शासन मंत्री शांति धारीवाल ने बताया कि पहली बार मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के निर्देश पर राज्य के 59 नगरीय निकाय क्षेत्रों में प्रथम चरण में 105 ऑक्सीजन प्लांट लगाए जाएंगे। स्वायत्त शासन विभाग की 48 निकायों में 58 प्लांट लगेंगे। नगरीय विकास विभाग की 11 इकायों के माध्यम से 47 प्लांट लगेंगे। धारीवाल ने बताया कि जैसे ही ऑक्सीजन की उपलब्धता को लेकर परेशानी सामने आने लगी तो राज्य सरकार ने राजस्थान तुरंत फैसला लेकर ऑक्सीजन प्लांट स्थापित करने के लिए मंजूरी दे दी है। कोटा भी जल्दी ऑक्सीजन को लेकर आत्मनिर्भर बन जाएगा। राज्य सरकार की ओर से निजी अस्पतालों को भी निर्देश दिए गए हैं कि वह जल्द अपने अस्पतालों में ऑक्सीजन प्लांट स्थापित करें। राज्य के 59 निकायों में 5786 बेड पर प्रतिदिन पाइप से 10 हजार 125 सिलेंडर के माध्यम से ऑक्सीजन पहुंचाई जा सकेगी। इस तरह कुल 97 मैट्रिक टन ऑक्सीजन राजकीय चिकित्सालयों को उपलब्ध हो सकेगी। झाालवाड़ में भी पहले चरण में प्लांट स्थापित होगा।
धारीवाल ने कहा, आपदा की इस घड़ी में पूरा देश कोरोना की भयावहता का शिकार है ऐसे नाजुक समय में विपक्ष राजनीति ना करें। राज्य सरकार के प्रयासों को गति देने में अपना योगदान दें ताकि इस महामारी पर काबू पाने में सफलता मिल सके।
धारीवाल ने कहा चिकित्सा विभाग की ओर से दवाइयों के किट वितरण का कार्य भी लगातार जारी है। इसमें कुछ दवाइयां केंद्र सरकार की ओर से भेजी जा रही है। जिनकी आपूर्ति में व्यवधान हो जाने पर दवाइयों के वितरण में परेशानी का भी सामना करना पड़ रहा हैं। अगर किसी को दवा का किट उपलब्ध नहीं हुआ है तो कंट्रोल रूम पर संपर्क कर दवा का किट मंगवाएं, ताकि शुरुआती दौर में ही कोरोना से निजात मिल सके। धारीवाल ने ग्रामीण इलाकों में पैर पसार रहे कोरोना संक्रमण पर चिंता जाहिर करते हुए जिला प्रशासन को ग्रामीण इलाकों में रोकथाम कर रोगियों का इलाज और जागरूकता अभियान चलाने के निर्देश दिए।