Latest News in Hindi

असम में एनआरसी: आंदोलन करेगी तृणमूल:फिरहाद

By Manoj Kumar Singh

Sep, 12 2018 11:03:27 (IST)

कहा, गुवाहाटी में पार्टी के प्रदेश मुख्यालय का उद्घाटन आज

तृणमूल कांग्रेस असम में एनआरसी की सूची के बाहर किए गए लोगों के साथ खड़ी होगी, एनआरसी के खिलाफ आंदोलन कर असम में संगठन मजबूत करेगी। पार्टी प्रमुख ममता बनर्जी ने एनआरसी का कड़ा विरोध किया था। असम के लोगों ने ममता बनर्जी का समर्थन किया था।
कोलकाता

पश्चिम बंगाल की सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस ने असम में राष्ट्रीय नागरिकता पंजीकरण (एनआरसी) के खिलाफ आंदोलन कर वहां अपनी जमीन तैयारी करने की योजना बनाई है। इस क्रम में पार्टी गुवाहाटी में अपनी असम प्रदेश इकाई का मुख्यालय खोलने जा रही है। पार्टी के असम प्रदेश मुख्यालय का उद्घाटन तृणमूल कांग्रेस के माहसचिव और राज्य के शहरी विकास मंत्री फिरहाद हकीम गुरुवार को करेंगे।
उन्होंने बुधवार शाम को बताया कि असम में तृणमूल कांग्रेस का राज्य मुख्यालय बन कर तैयार हो गया है। उसका उद्घाटन करने के लिए वे गुरुवार को गुवाहाटी जा रहे हैं। उसी दिन वे पार्टी के प्रदेश मुख्यालय का उद्घाटन करेंगे। इसके बाद पार्टी असम के विभिन्न जिलों में अपना कार्यालय खोलेगी। उन्होंने कहा कि तृणमूल कांग्रेस असम में एनआरसी की सूची के बाहर किए गए लोगों के साथ खड़ी होगी, एनआरसी के खिलाफ आंदोलन कर असम में संगठन मजबूत करेगी। पार्टी प्रमुख ममता बनर्जी ने एनआरसी का कड़ा विरोध किया था। असम के लोगों ने ममता बनर्जी का समर्थन किया था। उन्होंने कहा कि तृणमूल कांग्रेस के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा सर्वोपरि है। हम राष्ट्र विरोधी गतिविधियों के खिलाफ है। हम राष्ट्र के खिलाफ एनआईए जांच करे और कार्रवाई करने के लिए स्वतंत्र है। लेकिन कोई राष्ट्र सुरक्षा के नाम पर किसी को प्रताडि़त या वंचित करेगी तो तृणमूल कांग्रेस इसकी इजाजत नहीं देगी।

असम में तृणमूल कांग्रेस ने अभी तक प्रदेश इकाई का गठन नहीं कियाा है। फिरहाद हकीम के अनुसार वहां पर पार्टी अभी अपने नेताओं का वर्किंग ग्रुप के जरिए अपनी गतिविधियां चला रही है, जिसमें 20 से अधिक पूर्व मंत्री, पूर्व विधायक और पूर्व सांसद शामिल हैं।
असम में एनआरसी की दूसरी सूची जारी किए जाने पर इसके खिलाफ में प्रदर्शन करने के लिए फिरहाद हकीम और पार्टी के सांसद और विधायक असम गए थे। लेकिन पुलिस ने सभी को सिलचर हवाई अड्डे पर रोक दिया था। जब उनसे पूछा गया कि क्या उन्हें इस बार भी भाजपा और उसकी राज्य सरकार की ओर से उन्हें रोके जाने की आशंका है। उन्होंने कहा कि भारत एक लोकतांत्रिक देश है और देश का कोई भी नागरिक देश के किसी भी राज्य में जा सकता है। हम यही सोच कर जा रहे हैं कि हमें रोका नहीं जाएगा। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह पश्चिम बंगाल में आते हैं। उन्हें जगह देने से ले कर उनकी सुरक्षा की व्यवस्था हमारी सरकार करती है और वे हमारे खिलाफ बोल कर चले जाते हैं। यही लोकतंत्र है। इसी तरह हम भी उम्मीद करते हैं कि हमें असम में नहीं रोका जाएगा।