यहां दुकान संचालकों ने कर दी यह चूक और हो गए कोरोना संक्रमित, ग्राहकों के लिए भी बन गए खतरा

|

Published: 29 May 2020, 06:00 AM IST

घातक न बन जाए राहत...
सोशल डिस्टेंस को भूले तो दुकान संचालक व व्यापारी ही हो गए संक्रमित, खाद-बीज दुकान संचालक, अनाज व्यापारी की रिपोर्ट पॉजीटिव, अंडे बेचने वाले ने तोड़ा दम
-जिले में तीन नए संक्रमित मरीज आए सामने, एक ने तोड़ा दम, अब संक्रमित मरीजों की संख्या 125 हुई, महामारी से जान गंवाने वाले अब 10 हुए

यहां दुकान संचालकों ने कर दी यह चूक और हो गए कोरोना संक्रमित, ग्राहकों के लिए भी बन गए खतरा

खरगोन.
कोरोना संक्रमण का तांडव दो माह से जिले में चल रहा है। लॉकडाउन के उन ६० दिनों में विकास की रफ्तार रुक गई। संक्रमित मरीजों के ग्राफ में गिरावट आई और जिला रेड जोन से सीधे ग्रीन जोन में आया तो प्रशासन ने राहत देने के लिए सशर्त बाजार खुलने की अनुमति दी। लेकिन लगता है यह निर्णय वैसा ही साबित हो रहा है जैसे बिना सूचना के किसी बांध के फ्लड गेट खोलना। कमाई के चक्कर में व्यापारियों ने दुकानें तो खोली लेकिन कोरोना से बचने के नियम-कायदे भूल गए। नतीजा यह रहा कि तीन मरीज बुधवार-गुरुवार की रात फिर सामने आ गए हैं। यह तीनों संक्रमित व्यापारी तबके से जुड़े हुए हैं। लिहाजा इनके संपर्क में आने वालों को भी संक्रमण का खतरा बढ़ गया है। तीन मरीजों में से एक ने रिपोर्ट आने से पहले ही दम तोड़ दिया है। अब जिले में संक्रमित मरीज १२५ और महामारी से मरने वालों की संख्या १० हो गई है।
एसडीएम अभिषेक गेहलोत ने बताया बावड़ी बस स्टैंड क्षेत्र में अंडे की दुकान लगाने वाले मृतक ५५ वर्षीय व्यक्ति की तबीयत अचानक बिगड़ी। २५ मई को उसका सैंपल लेकर इंदौर एमवाय रेफर किया गया। यहां २७ मई की देर रात करीब १ बजे उसकी रिपोर्ट पॉजीटिव आई। लेकिन उसके पहले ही उसने अस्पताल में दम तोड़ दिया। दूसरा संक्रमित ब्राह्मणपुरी निवासी है और उसकी एमजी रोड पर खाद-बीज की दुकान है। एसडीएम ने बताया जब खाद-बीज दुकान संचालकों को छूट दी तो उसने भी अपनी दुकान खोली, लेकिन यहां सोशल डिस्टेंस का पालन नहीं किया। लिहाजा यह लापरवाही संक्रमण में तब्दील हो गई। तीसरा संक्रमित सौमित्रनगर क्षेत्र का रहवासी है। जानकारी के मुताबिक वह भी अनाज व्यापारी बताया जा रहा है। हालांकि प्रशासन का कहना है कि उसकी ट्रेवल हिस्ट्री बच्चों से जुड़ी है।

खतरों के खिलाड़ी न बन जाए दुकान संचालक
संक्रमण के बीच बाजार में ढील देना कहीं महंगा सौदा साबित न हो जाए। प्रशासन भी इस बात को मानता है कि यदि नियमों का पालन नहीं किया तो कोरोना का दंश बड़े पैमाने पर तबाही मचा सकता है। खासकर दुकानों पर शहर के अलावा ग्रामीण क्षेत्रों की ग्राहकी भी है। यदि यहां लापरवाही बरती तो यह संक्रमण सुरक्षित क्षेत्रों में शामिल गांवों तक भी पहुंचेगा। यदि ऐसे हालात बने तो दुकान संचालक खतरों के खिलाड़ी के रूप में उभरकर सामने आएंगे।

स्वस्थ्य होने वालों का सैकड़ा, 15 मरीज अब भी एक्टिव
सीएमएचओ कार्यालय से गुरुवार को जारी हेल्थ बुलेटिन के अनुसार पिछले 24 घंटे में 2 मरीज स्वस्थ्य होकर डिस्चार्ज हुए। अब संक्रमण से स्वस्थ्य होकर घर लौटने वालों की संख्या १०० हो गई है। जबकि १५ मरीज अब भी एक्टिव मोड पर है। पिछले 24 घंटे में 40 नए सैंपल जांच के लिए भेजे हैं। अब भी 151 सैंपलों की रिपोर्ट आना शेष है।

20तक पहुंचे कंटेंटमेंट एरिया
पिछले 24 घंटे में अस्पताल के आयसोलेशन वार्ड में 2 मरीज व डिस्ट्रीक कोविड हेल्थ सेंटर में 6 मरीजों को भर्ती किया है। गुरूवार को 3 और नए कंटेनमेंट एरिया घोषित किए हैं। इस तरह जिले में कुल 20 कंटेनमेंट एरिया घोषित है।

आयसोलेशन वार्ड और डिस्ट्रीक कोविड सेंटर में 265 मरीज भर्ती
हेल्थ बुलेटिन के अनुसार जिला अस्पताल के आयसोलेशन वार्ड में अभी १३४ मरीज भर्ती है। जबकि कोविड हेल्थ सेंटर (डीसीएचसी) में ९१ व कोविड हेल्थ सेंटर (सीसीसी) में ४० मरीज भर्ती है। कुल २६५ मरीजों का इलाज तीनों जगह चल रहा है।

और इधर, पांच दुकानों पर सोशल डिस्टेंस तार-तार, बिना मॉस्क के मिले संचालक
व्यापार व्यवसाय से जुड़े लोगों की रिपोर्ट पॉजीटिव आने के बाद प्रशासन भी हरकत में आ गया। गुरुवार को ताबड़तोड़ अफसर बाजार में निकले और नियमों की पड़ताल की। एसडीएम अभिषेक गेहलोत ने बताया शहर में अलग-अलग स्थानों पर दलों ने निरीक्षण किया। इस दौरान दुकानदारों द्वारा आवश्यक निर्देशों के पालन नहीं किया गया। दल ने कार्रवाई करते हुए आगामी एक सप्ताह तक उन दुकानों को सील किया गया है। अब ये दुकानें अगले गुरुवार को ही खोली जाएगी। नायाब तहसीलदार मुकेश निगम ने बताया नियमों की यह अनदेखी एमजी रोड स्थित संघवी स्टोर्स, जवाहर मार्ग पर गुजराती ट्रेडर्स रवि ट्रेडर्स, राधावल्लभ में टिकटोक मेंस वियर और बावड़ी बस स्टेशन पर बुरहानी ट्रेडर्स में सामने आई। यहां संचालकों द्वारा ही फिजिकल डिस्टेंसिंग एवं मास्क का उपयोग नहीं मिला। दुकानों पर गोल घेरे नही बनाए थे। ग्राहकों से सेनेटाइजर का उपयोग भी नहीं कराया जा रहा था। निरीक्षण दल में राजस्व निरीक्षक अभिषेक जमरा, राजस्व निरीक्षक मोबीन खान व नगरपालिका का मामला शामिल था। सभी दुकानों को सील कर दिया है।