बारिश से नहीं बचा पाए हजारों क्विंटल बोरी गेहूं, सड़कर हुआ खराब

|

Published: 14 Jun 2021, 10:28 PM IST

किसानों का भुगतान अटकने से परेशान, बेपरवाही आई सामने, अब प्रशासन से गुहार

Wheat spoiled in Katni

कटनी. किसानों से समर्थन मूल्य में उपज खरीदी के लिए कई माह पहले से तैयारी बैठक होती है, संपूर्ण व्यवस्थाओं का दावा किया जाता है, लेकिन हकीकत एकदम उलट होती है। इस बार फिर गेहूं खरीदी के समय बारिश हुई और हजारों क्विंटल गेहंू सड़ गया। गेहूं भंडारित न होने से कई किसानों का भुगतान अटक गया है और अधिकारी इस मामले को ध्यान नहीं दे रहे। बता दें कि राम स्वहायता समूह पिपरौध जिसकी अध्यक्ष विमला चौधरी
हैं इनकी टीम द्वारा खरीदी की गई। यहां पर 900 बोरी खराब हुआ है, 6 किसानों का भुगतान अटक गया है। समूह लगभग साढ़े 10 लाख रुपये का नुकसान बता रहा है। एसडीएम को पत्र लिखकर कहा है कि आम वेयर हाउस के संचालक, मप्र वेयर हाउस कार्पोरेशन द्वारा सही व्यवस्था व समय पर उठाव न करने से गेहूं सड़ गया है।
4 हजार क्विंटल गेहंू का उठाव एफसीआइ को करना था जो नहीं किया गया। पक्का स्टैग नहीं थे, जिससे समस्या हुई। समूह ने एसडीएम को पत्र लिखकर कहा है कि समूह की आर्थिक स्थिति खराब हो जाने के कारण आगे का कार्य नहीं कर पाएगा। इस मामले में जांच-कार्रवाई की भी मांग की है। बता दें कि जिले के लगभग 35 केंद्रों में गेहूं खराब हुआ है। पहाड़ी में लगभग 300 क्विंटल गेहूं खराब हुआ है। सुरेंद्र दाहिया खरीदी केंद्र प्रभारी रहे हैं। जिले में लगभग 35 खरीदी केंद्रों में अनाज प्रभावित हुआ है। सबसे ज्यादा गेहूं हीरापुर कौडिय़ा, पिपरौध में खराब हुआ है।

इनका कहना है
खरीदी करने वाले समूह व प्रभारियों को समय पर गेहूं का भंडारण कराने कहा गया है। बारिश से बचाव के लिए व्यवस्था करने कहा गया था। भंडारण न होने से की स्थिति में आगे की कार्रवाई की जाएगी। किसानों का भुगतान हो रहा है।
केएस भदौरिया, सहायक आपूर्ति अधिकारी।