काम के बाद आया बेहतर रिजल्ट, मिल गया देश भर में प्रथम स्थान

|

Published: 01 Aug 2021, 08:22 PM IST

बाधाएं दूर कर फ्रेट की गति 60 केएमपीएच पार, पमरे फ्रेट गति में लगातार भारतीय रेल में प्रथम स्थान पर, अफसरों की दूरदर्शिता और कर्मचारियों की मेहनत ला रही रंग

WCR ranks first in Indian Railways

कटनी. रेलवे द्वारा कई संचालन बाधाओं को अधोसरंचना एवं गहनता पूवर्क योजनाबद्ध तरीके से दूर करते हुए नित नए कीर्तिमान स्थापित किए जा रहे हैं। भारतीय रेल ने फ्रेट मालगाडिय़ों की गति को बढ़ाने के लिए नित नई तकनीक का उपयोग किया है। पश्चिम मध्य रेल में भी फ्रेट मालगाडिय़ों की गति को 60 केएमपीएच से पार करने के लिए संचालन की समुचित व्यवस्था करके इस लक्ष्य को हासिल किया है। पिछले पांच महीने से पमरे लगातार भारतीय रेल में प्रथम स्थान पर बना हुआ है। बता दें कि पछले वर्ष 10 से ज्यादा ऑपरेशनल कंस्ट्रेंट्स हटाए हैं। वर्ष 2020-21 में ऑपरेशनल कंस्ट्रेंट्स को हटाने के लिए विशेष ध्यान दिया गया।
लम्बे ब्लॉक सेक्शनों पर दोहरीकरण और तिहरीकरण, गति प्रतिबंध का कार्य पूर्ण किए हैं। कटनी-सिंगरौली रेलखण्ड पर गोंदवाली से महदेईया के बीच दोहरीकरण, सतना-रीवा रेलखण्ड पर सतना से कैमा के बीच दोहरीकरण, बीना-कटनी रेलखण्ड पर मकरोनिया से लिधौराखुर्द के बीच तिहरीकरण एवं हरदुआ से रीठी के बीच तिहरीकरण के कार्य को पूर्ण करके और गति प्रतिबंध को हटा कर सेक्शन की क्षमता बढ़ी। इंटरमीडिएट ब्लॉक सिग्नल स्थापित करके फ्रेट की गति को बढ़ाया गया।

यहां भी पैनल इंटरलॉकिंग वर्क
झुकेही-कैमोर रेलखण्ड पर नन्हवारा और मेहगांव यार्ड में पैनल इंटरलॉकिंग लगाकर 15 की सेक्शन स्पीड को बढ़ाकर 50 कर दिया गया। जिससे गुड्स ट्रेन की मोबिलिटी में वृद्धि हुई है। न्यू कटनी जंक्शन में यार्ड रिमॉडलिंग के कार्य को पूरा किया, जिसमें मुख्यत: लूप लाईन की लम्बाई बढ़ाई गई और साथ ही साथ 2 क्रॉस ओवर डालकर यार्ड की शंटिंग एवं रनिंग फ्लेक्सिबिलिटी बढ़ाई गई। जिसके कारण गाडिय़ों के डिस्पेश और रिसीव में डिटेंशन को कम से कम किया गया। इससे फ्रेट गाडिय़ों की गति बढ़ी है।

कटिंग एवं ब्रिजों पर गति प्रतिबंध हटाया
पमरे में पुराने ब्रिजों के गर्डर को बदलना एवं सुधारीकरण में उच्च गुणवत्ता के साथ रखरखाव किया गया। ब्रिजों के गति प्रतिबंध को भी हटाया गया। जिस कारण मालगाडिय़ों की संचालनकी गति में वृद्धि हुई। जबलपुर मण्डल के निवार ब्रिज के डाउन दिशा में 30 की गति प्रतिबंध को हटाया गया। इसी प्रकार रतनगांव से सलैया के बीच 40 की गति प्रतिबंध को भी हटाया गया। बेहतर कार्य के लिए पमरे महाप्रबंधक शैलेंद्र कुमार सिंह ने प्रमुख मुख्य विभागाध्यक्षों और मण्डलों के मंडल रेल प्रबंधक के टीम वर्क को सराहा है।