सिंधी समाज ने की मांग मंत्री के भाइयों पर हो कार्रवाई

|

Published: 02 Aug 2021, 03:02 PM IST

मंत्री इंदर सिंह परमार के भाई हरि प्रसाद और उनके परिजनों समर्थकों द्वारा बैंक परिसर में नरेश फुलवानी को लाठी-डंडों से पीटने का आरोप।

कटनी. 15 जुलाई को शाजापुर जिले के सेंट्रल बैंक कर्मी नरेश फुलवानी के ऊपर हुए हमले के विरोध में पूरे प्रदेश में विरोध शुरु हो गया है। पूज्य सिंधी सेंट्रल पंचायत के अध्यक्ष मोहन बत्रा एवं कार्यकारणी सदस्य मोनी जैसवानी ने बताया कि मध्य प्रदेश शासन के मंत्री इंदर सिंह परमार के भाई हरि प्रसाद व उनके परिजनों समर्थकों द्वारा बैंक परिसर में नरेश फुलवानी को जान से मारने की धमकी दी गई और लाठी-डंडों से पीटा गया। जातिगत अपमानित किया गया।

ये भी पढ़ेंः इस शहर के ई-वेस्ट से मिला 250 ग्राम सोना, 500 ग्राम चांदी

घटना के बाद जब प्रताड़ित बैंक कर्मी द्वारा थाने में रिपोर्ट लिखवाई जाने पर वहां के टीआई द्वारा रिपोर्ट दर्ज नहीं की गई एवं अभद्र भाषा का प्रयोग करते हुए मंत्री परमार के दबाव में प्रताड़ित किया गया और उल्टे बैंक कर्मी के विरुद्ध ही मामला दर्ज कर दिया गया। उक्त घटना के विरोध में पूरे प्रदेश में सिंधी समाज एवं अन्य सभी वर्गों द्वारा विरोध कियाजा रहा है।

ये भी पढ़ेंः शादी के सालभर बाद भगाया, अब मजदूरी की मजबूरी

पूज्य सिंधी सेंटर पंचायत भोपाल के तत्वाधान में मध्य प्रदेश के सभी सिंधी सामाजिक संगठनों के द्वारा 2 अगस्त को काला दिवस मनाया गया। सुभाष चौक से कचहरी चौक तक रैली निकाली गई एवं मुख्यमंत्री के नाम एसडीएम को ज्ञापन सौंपा गया। इसमें मांग रखी थी प्रताड़ित बैंक कर्मी नरेश फुलवानी की एफआईआर जो दर्ज है उसे निरस्त किया जाए। कैबिनेट मंत्री इंद्र सिंह परमार के भाइयों परिजनों एवं समर्थकों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए।उक्त घटना की न्यायिक एवं निष्पक्ष जांच कराकर शाजापुर टीआई और अन्य पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई की जाए।

ये भी पढ़ेंः एमवायएच अस्पताल में एनिमा लगाते समय महिला के साथ छेड़छाड़