तालाब में डूबने से 2 बच्चों की मौत, इलाके में मातम, लगातार बढ़ रहे हैं यहां हादसे

|

Updated: 26 Sep 2021, 03:09 PM IST

कुठला थाना क्षेत्र में स्थित तालाब में हुई घटना, पुलिस ने शुरू की मामले की जांच।

कटनी. मध्य प्रदेश के कटनी जिले के कुठला थाना क्षेत्र अंतर्गत आने वाले तालाब में डूबने से 2 बच्चों की मौत हो गई है। घटना के बाद इलाके में मातम की स्थिति निर्मित हो गई है। आनन-फानन में ग्रामीणों ने पुलिस की मदद से शव को बाहर निकाला। वहीं, पुलिस ने दोनों शवों को प्राप्त कर पंचनामा बनाते हुए कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए जिला अस्पताल भेज दिया है।

बताया जा रहा है कि, हादसे का शिकार हुए एक बालक का नाम कृष्णा पिता दिनेश बेन बताया जा रहा है। मृतक की उम्र उम्र 8 साल थी। वहीं, हादसे में जान गवाने वाली बालिका का नाम हस्सो पिता रामदास बेन बताया जा रहा है, जिसकी उम्र भी 8 साल बताई जा रही है। बताया जा रहा है कि, दोनों बच्चे कुठला तालाब के पास खेल रहे थे, इसी दौरान पैर फिसने से दोनों गहरे पानी में चले गए, जिसके चलते डूबने से उनकी मौत हो गई। सूचना पर कुठला पुलिस मौके पर पहुंची और मामले की जांच की जा रही है।

 

पढ़ें ये खास खबर- बैलगाड़ी पर सवार होकर वैक्सीनेशन सेंटर पहुंची 88 साल की बुजुर्ग, लोगों के लिये बनी प्रेरणा

 

कड़ी मशक्कत कर निकाले गए शव

बता दें कि, हादसे का शिकार हुए दोनों बच्चों के साथ तालाब के नजदीक और भी बच्चे खेल रहे थे। जिन्होंने ही हादसे का कारण बताया है। हादसे के तुरंत बाद ही साथ खेलने वाले अन्य बच्चों ने डूबने वाले बच्चों के परिजन को इस संबंध में सूचना दी थी। इसके बाद परिजन समेत आसपास के लोग बड़ी तादाद में घटना स्थल पर पहुंच गए। इलाके के लोगों ने ही कड़ी मशक्कत के बाद दोनों शवों को तालाब से रेस्क्यू कर निकाला।

 

पढ़ें ये खास खबर- सड़क से कार हटाने कहा, तो महिला पुलिस पर चढ़ा दी कार


हादसों का गढ़ बनता जा रहा है तालाब, जिम्मेदार नहीं ले रहे सुध

हादसे के बाद दोनों बच्चों की मौत से परिजन समेत इलाके में मातम का माहौल है। वहीं, इलाके के लोगों का कहना है कि, पहले भी कई बार तालाब में लोगों के डूबने की घटनाएं हो चुकी हैं, जिसकी जानकारी प्रशासन को है, बावजूद इसके यहां सुरक्षा के कोई इंतजाम नहीं किये जा रहे। लोगों का कहना है कि, तालाब शहरी क्षेत्र में इसके बाद भी जिम्मेदार लोगों की सुरक्षा के मद्देनजर यहां कोई इंतजाम नहीं कर रहा है, जिसके चलते तालाब हादसों का स्थान बनता जा रहा है।