पान मसाले में चालीस तरह के जानलेवा कैमिकल

|

Published: 09 Aug 2019, 12:04 PM IST

शोध और जांच में सनसनीखेज खुलासा
दस बड़े ब्रांड की हुई जांच, सात कानपुर के

कानपुर। पान मसाला अब और भी खतरनाक हो गया है। देश के दस बड़े पान मसाला ब्रांड्स की जांच में इस बात का खुलासा हुआ है। खास बात यह कि इनमें सात ब्रांड तो कानपुर के ही हैं। यानि कानपुर से ही लोगों को यह जहर बांटा जा रहा है। यह पान मसाल खाने वाले गंभीर बीमारियों के शिकार बन रहे हैं। इसकी वजह है पान मसाले में मिलाया जाने वाला घातक केमिकल। यह केमिकल शरीर के लिए जहर के समान है।

लत डालने के लिए दस गुना ज्यादा केमिकल की मिलावट
लोगों को पान मसाले के स्वाद का लती बनाने के लिए मैग्नीशियम कार्बोनेट जैसे खतरनाक केमिकल को दस गुना तक ज्यादा मिलाया जा रहा है। छोटी सी पुडिय़ा में 40 तरह के केमिकल मिलाए जा रहे हैं। इसे मिलाने से मसाले की उम्र बढ़ जाती है। ये मसाले के दूसरे जानलेवा केमिकल का कसैलापन दबाकर उसे निगलने में आसान बनाता है। धीरे-धीरे यही केमिकल पान मसाले की आदत डाल देता है। इंटरनेशनल जर्नल ऑफ करंट फार्मा के रिसर्च में यह खौफनाक तस्वीर सामने आई है।

लिवर-किडनी हो जाता खराब
पान मसाले में मिलाया जाने वाला मैग्नीशियम कार्बोनेट चूने से मिलता-जुलता रासायनिक पदार्थ है और घोषित रूप से कैंसर को सीधे न्योता देने वाला केमिकल है। जांच में इसकी मात्रा पान मसाले के एक पाउच में दो से चार प्रतिशत तक पाई गई जो सीमित मात्रा से दस गुना तक अधिक है। इसे लगातार खाने से धीरे-धीरे मुंह कम खुलने लगता है और कैंसर की स्टेज शुरू हो जाती है। फिर चुपके से किडनी और लिवर को भी संक्रमित कर देता है। एक पुडिय़ा में मिलने वाले चालीस केमिकल आपस में प्रतिक्रिया करके 3096 से ज्यादा केमिकल बना लेते हैं। यही हानिकारक तत्व मिलकर हमारे मुंह की सुरक्षा परत को ध्वस्त कर कैंसर को जन्म दे रहे हैं।

नपुंसकता का बढ़ा खतरा
पान मसाले में मिलाए जाने वाले यह केमिकल पुरुषों को नपुंसक तक बना रहे हैं। इसमें किडनी और लिवर को खराब करने वाले केमिकल अब सात गुना ज्यादा बढ़ गए हैं। इस पान मसाले से बीमार हो चुके लोगों को सादा पानी पीने पर भी जलन होने लगी है। इसके अलावा हाई बीपी, दिल का दौरा, घबराहट, उल्टी और चक्कर के लक्षण भी मिल रहे हैं।