लोकसभा सीट के 8 विधानसभा क्षेत्रों में से 2 में भाजपा जीती, वोट प्रतिशत घटा, कांग्रेस का वोट प्रतिशत डेढ़ गुणा हुआ

|

Published: 13 Dec 2018, 11:10 AM IST

इन चुनावों में कांग्रेस ने अपना वोट शेयर करीब डेढ़ गुना बढ़ाया है, जो कि भाजपा के लिए फाइनल मैच में चिंता का विषय बन सकता है।

अविनाश केवलिया/जोधपुर. राजनीति के मैदान में तीन राज्यों के विधानसभा चुनावों का सेमीफाइनल कांग्रेस जीत चुकी है। 2019 के लोकसभा चुनाव या यों कहें कि फाइनल में अब कड़ी चुनौती भाजपा को मिलने वाली है। कांग्रेस ने 2014 के लोकसभा चुनाव की जोधपुर सीट पर जिस प्रकार से शिकस्त खाई थी उसके मुकाबले इन विधानसभा चुनावों में अपनी स्थिति मजबूत कर ली है। दोनों दलों का अगला टारगेट अब लोकसभा चुनाव है। पत्रिका टीम ने इन आठ विधानसभा सीटों की स्थिति की पड़ताल की, जिस पिच पर पांच माह बाद फाइनल खेला जाना है। लोकसभा व विधानसभा चुनाव अलग-अलग रणनीति और बैकग्राउंड के साथ लड़ा जाता है। यहां राष्ट्रीय पार्टियां व मुद्दे महत्व रखते हैं। लेकिन जिस प्रकार से 2013 के चुनाव में भाजपा ने बड़ी जीत के बाद 2014 के लोकसभा चुनाव में दो तिहाई वोट हासिल कर सभी को चौंकाया था, अब स्थिति उसके उलट होती नजर आ रही है। विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने साढ़े चार साल पुरानी अपनी स्थिति को सुधार लिया है। इन चुनावों में कांग्रेस ने अपना वोट शेयर करीब डेढ़ गुना बढ़ाया है, जो कि भाजपा के लिए फाइनल मैच में चिंता का विषय बन सकता है।


आठ सीटों का गणित

- 2014 के लोकसभा चुनाव में जोधपुर सीट (आठ विधानसभा क्षेत्र) का भाजपा का वोट शेयर 66.62 प्रतिशत था।
- 2018 के विधानसभा चुनाव के परिणाम आने के बाद यह घट कर 39.81 प्रतिशत रहा गया है।
- 2014 के लोकसभा चुनाव में जोधपुर सीट का कांग्रेस का वोट शेयर 28.87 प्रतिशत रहा था।
- अब 2018 के विधानसभा चुनावों में बढ़ कर 47.92 प्रतिशत हो गया है।

 

अगर कांग्रेस और मजबूत हुई तो आधे से ज्यादा वोट ले लेगी
लोकसभा सीट के इन विस. क्षेत्रों में कांग्रेस ने करीब 48 प्रतिशत वोट अपने खाते में किए हैं। पिछली बार कांग्रेस एक तिहाई पर ही सिमट गई थी। भाजपा के पास दो तिहाई वोट थे, जो कि इस बार 40 प्रतिशत से भी कम हो गए हैं। भाजपा की स्थिति नहीं सुधरी को लोकसभा चुनावों में भी स्थितियां अलग हो सकती हैं।

 

ये आठ विस क्षेत्र हैं जोधपुर लोकसभा सीट में
पोकरण, फलोदी, लोहावट, शेरगढ़, सरदारपुरा, जोधपुर शहर, लूणी, सूरसागर

आठ में से दो सीटें जीती लेकिन वोट शेयर घटा
भाजपा ने आठ विधानसभा सीटों में से दो सीटें फलोदी व सूरसागर जीती है। लेकिन यहां भी वोट शेयर घटा है। फलोदी में जहां 28.73 प्रतिशत, वहीं सूरसागर में 18.95 प्रतिशत वोट लोकसभा चुनावों के मुकाबले कम मिले। भाजपा का सबसे ज्यादा वोट बैंक लूणी में 39.54 प्रतिशत घटा है। कांग्रेस का सबसे ज्यादा वोट बैंक सरदारपुरा में 30.33 प्रतिशत बढ़ा है।


भाजपा का वोट शेयर ऐसे घटा

विस क्षेत्र - 2014 की स्थिति - 2018 के हालात - घटत का अंतर
पोकरण - 63.78 - 47.68 - 16.1 घटा
फलोदी - 63.59 - 34.86 - 28.73 घटा
लोहावट - 63.17 - 35.91 - 27.26 घटा
शेरगढ़ - 65.43 - 38.43 - 27 घटा
सरदारपुरा - 65.97 - 32.59 - 33.38 घटा
जोधपुर शहर - 68.89 - 45.41 - 23.48 घटा
सूरसागर - 68.49 - 49.54 - 18.95 घटा
लूणी - 73.66 - 34.12 - 39.54 घटा
---

कांग्रेस का वोट शेयर ऐसे बढ़ा
विस क्षेत्र - 2014 की स्थिति - 2018 के हालात - अंतर

पोकरण - 30.52 - 48.19 - 17.67 बढ़ा
फलोदी - 31.78 - 29.85 - 1.93 घटा
लोहावट - 30.94 - 58.41 - 27.47 बढ़ा
शेरगढ़ - 27.51 - 51.04 - 23.53 बढ़ा
सरदारपुरा - 31.13 - 61.46 - 30.33 बढ़ा
जोधपुर शहर - 28.39 - 49.97 - 21.58 बढ़ा
सूरसागर - 28.32 - 46.25 - 17.93 बढ़ा
लूणी - 22.38 - 38.24 - 15.86 बढ़ा

(आंकड़े प्रतिशत में, 2014 के लोस चुनाव का वोट शेयर प्रतिशत, 2018 का विस चुनाव का वोट शेयर प्रतिशत)