सड़क पर अचानक डम्पर रोक बैक लेते कार से भिड़ंत, डॉक्टर की मृत्यु

|

Published: 27 Feb 2021, 12:11 AM IST

- हिट एन रन

- निजी अस्पताल में ड्यूटी के बाद घर लौटते चिकित्सक की बजरी के डम्पर ने ली जान

जोधपुर.
बजरी के अवैध खनन व परिवहन में लिप्त डम्पर ने इस बार एक डॉक्टर की जान ले ली। शास्त्रीनगर में मेडिकल कॉलेज के मुख्य गेट के सामने बजरी का डम्पर अचानक रूकने के बाद बैक लेने लगा तो पीछे आ रही कार के टकराने से कार सवार डॉक्टर की मृत्यु हो गई। हादसे के बावजूद डम्पर चालक कार को पीछे घसीटता रहा और फिर डम्पर लेकर भाग गया।

शास्त्रीनगर थानाधिकारी पंकजराज माथुर ने बताया कि बनाड़ थानान्तर्गत आदित्य द्वारकाधीश वैली निवासी डॉक्टर दीपक (39) पुत्र अरविंद मिश्रा देर रात पाल रोड पर निजी अस्पताल में ड्यूटी करने के बाद कार से घर लौट रहे थे। मेडिकल कॉलेज मुख्य गेट के सामने बजरी के एक डम्पर चालक ने अचानक ब्रेक लगा दिए और बैक लेने लगा। इतने में पीछे आ रही डॉक्टर दीपक की कार डम्पर के पिछले हिस्से से जा टकराई। कार का आगे का हिस्सा डम्पर के नीचे जा घुसा और बुरी तरह चकनाचूर हो गया।
कार में फंसे डॉक्टर दीपक को बाहर निकालकर मथुरादास माथुर अस्पताल ले लाया गया, जहां इलाज के दौरान मृत्यु हो गई। डॉ दीपक मिश्रा पाल रोड पर श्रीराम अस्पताल में कार्यरत थे।

जलजोग की तरफ मुडऩे की बजाय आगे बढ़ा था डंपर
हादसा करके भागे डम्पर में बजरी भरी थी। वह महावीर सर्किल से मेडिकल कॉलेज चौराहे की ओर जा रहा था। अंदेशा है कि उसे मेडिकल कॉलेज गेट के सामने से जलजोग की तरफ मुडऩा था, लेकिन चालक कुछ आगे निकल गया था। तब उसे पता लगा तो उसने अचानक ब्रेक लगा दिए थे और बैक लेने लगा था। बैक लाइट व रिफ्लेक्टर न होने पीछे से आ रहे कार चालक डॉ दीपक मिश्रा डम्पर से जा टकराए और जान गंवा दी। डम्पर चालक दो-तीन फुट कार को पीछे की तरफ घसीटने के बाद डम्पर भगा ले गया। सीसीटीवी कैमरों के बावजूद पुलिस डम्पर पकड़ नहीं पाई है।

एक दिन पहले ही मनाया था जन्मदिन
डॉ सुनील चाण्डक ने बताया कि डॉ दीपक मिश्रा ने कॉरोना संक्रमण काल में लगातार ड्यूटी कर सेवाएं दी थी। रूस से उसने एमबीबीएस की थी। डॉ दीपक ने बुधवार को ही उल्लास के साथ जन्मदिन मनाया था। उनके तीन पुत्र हैं। हादसे में मृत्यु से चिकित्सकों में शोक व्याप्त है।