अंधेरे सुनसान मार्ग पर लुटेरे कर रहे हैं आपका इंतजार

|

Updated: 02 Aug 2021, 11:26 AM IST

- अकेले दुपहिया वाहन चालक को ही बना रहे शिकार
- मौका ए सावधान

जोधपुर. अगर रात के समय सुनसान सडक़ से दुपहिया वाहन लेकर गुजर रहे हैं तो थोड़ा सतर्क रहने की जरूरत है। खास तौर पर यदि सडक़ पर रोड लाइट भी न हो तो लूट के शिकार होने की आशंका सबसे ज्यादा है। एेसी घटनाएं शहर के बनाड़, मंडोर थाना क्षेत्रों में हो चुकी है।

रेलवे में लोको पायलट राकेश कच्छवाह पिछले दिनों रात में बनाड रोड से गुजर रहे थे। पिलार बालाजी मंदिर के पास बाइक सवार तीन युवकों ने अंधेरे का फायदा उठाते हुए टक्कर मारकर नीचे गिराया और बाइक लूट ली। खोखरिया रेलवे फाटक के पास होटल में इलेक्ट्रिशियन बजरंगसिंह पर चाकू से हमला कर कुछ इसी अंदाज में लूट की गई। मोटरसाइकिल सवार तीन युवकों की इस गैंग ने आम लोगों के साथ पुलिस की भी नाक में दम कर रखा है। ये लोग सुनसान जगह पर चाकू से डरा-धमका कर हमला और लूटपाट करने में माहिर है। डेढ़ महीने की मशक्कत के बाद आखिर गत २७ जुलाई को गैंग के दो गुर्गे तो पुलिस के हत्थे चढ़ गए, लेकिन एक अब भी पकड़ से दूर है।

सभी वारदातें अकेले व्यक्ति से अंधेरे में की
ये सुनसान जगह और अंधेरे में अकेले व्यक्ति को निशाना बनाते हैं। गिरफ्त में आए जाणियों की ढाणी चिरढाणी निवासी राकेश बिश्नोई व जालेली फौजदारा निवासी भजनलाल बिश्नोई ने तीसरे साथी तिलवासनी निवासी राकेश पुत्र मालाराम बिश्नोई के साथ मिलकर दो जून से २० जुलाई के बीच लूट की पांच वारदातें की। इन सभी में बाइक सवार अकेले व्यक्ति को सूनसान जगह पर शिकार बनाया गया। वहां न तो कोई सीसीटीवी कैमरे थे और न ही आमजन की कोई आवाजाही। तीन पहले बनाड़ रोड के आसपास अकेले निकलने वाले बाइक सवार की रैकी करते थे। बाद में दो सौ चार सौ मीटर परिधि में कोई अन्य व्यक्ति न दिखने पर चालक को रोककर लूट लेते।

यूं बच सकते हैं लूट से
- यदि किसी कार्य से बाहर निकलते हैं तो सुनसान रास्ता बिल्कुल न चुनें।
- अंधेरा होने के बाद या देर रात तक अकेले में सुनसान इलाके से आवाजाही से बचें

- यदि बाहर जाने की मजबूरी भी हो तो कुछ देर रुककर किसी अन्य वाहन चालक का साथ होने का इंतजार करें। एक-दो वाहन चालकों का साथ मिलने ही पर एेसे मार्ग से निकलें, ताकि लुटेरे एक से अधिक को देखकर वारदात की हिम्मत न कर सके।
- सुनसान या अंधेरे वाले मार्ग के अलावा किसी वैकल्पिक मार्ग क तवज्जो दी जाए। यदि वह मार्ग एक-दो किमी लम्बा है तो भी उसी से निकलने का प्रयास करें।

- एेसी जगहों से निकलने के दौरान किसी परिचित को अवश्य अवगत करा दें या उससे मोबाइल पर बात करते हुए ही निकलना चाहिए। ताकि यदि कोई अनहोनी हो जाए तो परिचित को तुरंत सूचना मिल जाए और पुलिस की मदद ली जा सके।
- अपने आस-पास यदि किसी व्यक्ति या युवक की गतिविधि-हरकत पर संदेह हो तो उसके बारे में परिजन या पुलिस को अवश्य अवगत कराया जाना चाहिए।

वारदात-दर-वारदात...
४ जून : पिलार बालाजी मंदिर के पास बाइक सवार तीन युवकों ने टक्कर मार नीचे गिराने के बाद लोको पायलट राकेश कच्छावाह की बाइक लूट ली।

- ३ जून : नांदड़ा खुर्द से बनाड रिंग रोड बाइपास कमठा कारीगर जगदीश प्रजापत को रोकने के बाद चाकू से डरा व धमकाकर तीन लुटेरों ने ५५ सौ रुपए व मोबाइल लूटा।

- ५ जून : बनाड़ रोड के पास मण्डोर थानान्तर्गत एक निजी अस्पताल के पीछे सुनसान क्षेत्र में किशोर को बाइक से नीचे गिराने के बाद लुटेरे चाकू से पांच वार कर घायल कर २४,८०० रुपए, एटीएम, आधार कार्ड लूटकर भाग गए।

- ४ जुलाई : खोखरिया रेलवे फाटक के पास इलेक्ट्रिशियन बजरंगसिंह पर चाकू से हमला कर बाइक सवार तीनों लुटेरों ने तीन हजार रुपए लूट लिए।

- २० जुलाई : नांदड़ा खुर्द से भोमियाजी का स्थान रोड पर सैनेट्री व्यवसायी दीपसिंह से मारपीट कर ४० हजार रुपए व एटीएम कार्ड लूट लिया गया।

यह है कमिश्नरेट पूर्व के कुछ थानों के हाल
पुलिस स्टेशन बनाड़---6
पुलिस स्टेशन मण्डोर ---2
पुलिस स्टेशन महामंदिर ---2
पुलिस स्टेशन डांगियावास ---00
पुलिस पस्त, लुटेरों की गश्त

जहां पुलिस गश्त नहीं है वहां लुटेरों ने अपनी गश्त लगा ली। जिन क्षेत्रो में अंधेरे रास्तों का फायदा उठा वारदातें हुई, वहां पुलिस की गश्त न के बराबर रही।

‘लूटपाट से बचने के लिए रात अंधेरे में सुनसान मार्गों पर अकेले जानें से बचने का प्रयास करना चाहिए। यदि वैकल्पिक मार्ग कुछ लम्बा है तो भी उसी का उपयोग करें। अकेले में सुनसान जगह से निकलना ही है तो किसी अन्य वाहन चालक का साथ जरूर करें।’
- सीताराम खोजा, थानाधिकारी, पुलिस स्टेशन बनाड़

यहां कहें अपनी बात
अगर आपके या आपके किसी परिचित के साथ एेसी घटना हुई, आपने कोई सबक लिया और पुलिस ने किसी प्रकार की मदद नहीं की तो इसके बारे पत्रिका जोधपुर के फेसबुक पेज द्धह्लह्लश्चह्य://222.द्घड्डष्द्गड्ढशशद्म.ष्शद्व/ह्म्श्चद्भशस्रद्धश्चह्वह्म् पर मैसेज करें या ९४६१४३६९५३ पर वाटसएप करने अपने सवाल व साझा करें अपने अनुभव।