कायलाना की सूरत-सीरत सुधारने में जुटे सैकड़ों हाथ

|

Published: 23 Oct 2020, 08:39 PM IST

कायलाना झील के निकट झाडिय़ां काट पौधे लगाने के काम में जुटे सैकड़ों लोग

 

जोधपुर. जोधपुर की प्रसिद्ध कायलाना झील की बिगड़ी सूरत-सीरत सुधारने इन दिनों सैकड़ों हाथ जुटे हुए है। शहर की कुछ सामाजिक संस्थाओं के पदाधिकारियों ने कायलाना झील के किनारे उगी झाडिय़ों की साफ-सफाई कर वहां पौधे लगाने का जिम्मा उठाया। देखते ही देखते उनके साथ यहां वॉकिंग करने आने वाले लोग सहित अन्य कई जने श्रमदान में साथ जुट गए। जिससे की शहर के इस पर्यटन स्थल को और खूबसूरत बनाया जा सके। रोजाना श्रमदान करते है 100-125 लोग सुबह छह बजे से साढ़े नौ बजे तक करीब 100-125 लोग कायलाना झील के किनारे श्रमदान में जुटे रहते है। करीब सात माह पूर्व कायलाना झील के किनारे उगी झाडिय़ों को हटाने, झील से काई साफ करने का काम शहर के वासूदेव आर्य, अनिल इशरानी, करणसिंह राठौड़, इकबाल सौदागर, योगेश बिड़ला, नरेन्द्रसिंह सोढ़ा, अर्पिता राठौड़, नरेश गिरी, मुकेश, डॉ जयकुमार, महेन्द्र छाजेड़ की अगुवाई में शुरू किया था। वर्तमान में रोजाना करीब 125 लोग यहां श्रमदान करते है। लक्ष्य इस वर्ष 1001 पौधे लगाने का इस कार्य से जुड़े इकबाल सौदागार ने बताया कि इस वर्ष में कायलाना के किनारे 1001 पौधे टी-गार्ड सहित लगाने का टीम का लक्ष्य है। अभी तक करीब 70 पौधे टी-गार्ड के साथ लगा चुके है। पौधों को पानी देने के लिए यहां 500-500 लीटर की दो टंकियां भी लगाई है।