हेड कांस्टेबल निलम्बित, न्यायिक अभिरक्षा में भेजा

|

Published: 17 Sep 2021, 01:44 AM IST

- राजीनामा के रुपए वसूलने के लिए चोरी का मामला दर्ज कर दस हजार रुपए रिश्वत लेने का मामला

जोधपुर.
अतिक्रमण की शिकायत करने के मामले में कार्रवाई के बदले राजीनामा कराने से मिले दस हजार रुपए बतौर रिश्वत लेने पर रंगे हाथों गिरफ्तार होने वाले बनाड़ थाने की डिगाड़ी चौकी के हेड कांस्टेबल को निलम्बित कर दिया गया। एसीबी ने आरोपी को गुरुवार को न्यायिक अभिरक्षा में भिजवाया।
पुलिस उपायुक्त (पूर्व) भुवन भूषण यादव ने बताया कि दस हजार रुपए रिश्वत लेने के आरोपी हेड कांस्टेबल नेमाराम पुत्र भागुराम को निलम्बित कर दिया गया। आरोपी हेड कांस्टेबल को रिश्वत लेने से एक दिन पहले ही यानि मंगलवार को डिगाड़ी चौकी से लाइन में तबादला कर दिया गया था। आदेश देर शाम तक थाने में पहुंचे थे और उप निरीक्षक भर्ती परीक्षा में ड्यूटी होने की वजह से वह चौकी से कार्यमुक्त नहीं हो सका था। अब उसे निलम्बित कर जांच के आदेश दिए गए हैं।

उधर, ब्यूरो के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक भोपालसिंह लखावत ने बताया कि प्रकरण में गिरफ्तार पाली जिले में आनंदपुर कालू थानान्तर्गत तिगरा गांव निवासी हेड कांस्टेबल नेमाराम को मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किया गया, जहां से उसे न्यायिक अभिरक्षा में भेजने के आदेश दिए गए।
गौरतलब है कि बीजेएस कॉलोनी में हनवंत ए निवासी विजयसिंह की शिकायत पर एसीबी ने बुधवार सुबह गोदारों की ढाणी स्थित ग्लोबल स्कूल में उप निरीक्षक भर्ती परीक्षा के दौरान ड्यूटी पर तैनात नेमाराम को दस हजार रुपए रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार किया गया था। उसने अतिक्रमण की शिकायत करने वाले विजयसिंह का दूसरे पक्ष से राजीनामा कराया था और विजयसिंह को बीस हजार रुपए दिलवाए थे। जिसमें से छह हजार रुपए हेड कांस्टेबल वसूल चुका था और शेष राशि में से दस हजार रुपए लेते पकड़ा गया था। यह राशि न देने पर विजयङ्क्षसह के खिलाफ चोरी का मामला भी दर्ज करा दिया गया था।