Latest News in Hindi

रेगिस्तान चिकित्सा अनुसंधान केंद्र में फिल्ड वर्कर, टेक्निशियन के पदाें पर भर्ती, करें आवेदन

By Yuvraj Singh Jadon

Sep, 12 2018 01:31:57 (IST)

रेगिस्तान चिकित्सा अनुसंधान केंद्र ( DMRC ), जोधपुर ने फिल्ड वर्कर/ टेक्निशियन के 15 रिक्त पदों पर भर्ती

DMRC Recruitment 2018, रेगिस्तान चिकित्सा अनुसंधान केंद्र ( DMRC ), जोधपुर ने फिल्ड वर्कर/ टेक्निशियन के 15 रिक्त पदों पर भर्ती के लिए आवेदन आमंत्रित किए हैं। इच्छुक व योग्य उम्मीदवार इन पदाें के लिए 20 सितंबर 2018 को आयाेजित होने वाले वाॅक इन इंटरव्यू में शामिल हो सकते हैं। आवेदन अाैर अन्य जानकारी के लिए नीचे दिए गए अधिसूचना विवरण लिंक पर क्लिक करें।

Desert Medicine Research Centre (DMRC ) में रिक्त पदाें का विवरणः

फिल्ड वर्कर/ टेक्निशियन - 15 पद
वेतनमान - 18,000 रूपए प्रतिमाह।


डेजर्ट मेडिसिन रिसर्च सेंटर ( DMRC ) में रिक्त पदाें पर आवेदन के लिए शैक्षणिक योग्यता:
- 12 वीं कक्षा (विज्ञान) के साथ दो साल का क्षेत्र / प्रयोगशाला अनुभव या दो साल का डीएमएलटी डिप्लोमा साथ में एक वर्ष का DMLT कार्य का अनुभव ।

- बीएससी (लाइफ साइंस) डिग्री को 3 साल का अनुभव माना जाएगा


रेगिस्तान चिकित्सा अनुसंधान केंद्र ( DMRC ), जोधपुर में चयन प्रक्रिया:

उम्मीदवारों का चयन साक्षात्कार में उनके प्रदर्शन के आधार पर किया जाएगा।चयन संबंधी अधिक जानकारी के लिए नीचे दिए गए अधिसूचना विवरण लिंक पर क्लिक करें।

 

मरूस्थलीय आयुविर्ज्ञान अनुसंधान केंद्र ( DMRC ), जोधपुर में रिक्त पदाें पर आवेदन कैसे करें:

इच्छुक व योग्य उम्मीदवार इन पदाें के लिए 20 सितंबर 2018 को DMRC, जोधपुर में आयोजित होने वाले वाॅक इन इंटरव्यू में शामिल हो सकते हैं।

महत्वपूर्ण तिथि:

वाॅक इन इंटरव्यू की तिथि- 20 सितंबर 2018

 

DMRC Recruitment notification 2018:

रेगिस्तान चिकित्सा अनुसंधान केंद्र ( DMRC ), जोधपुर में फिल्ड वर्कर/ टेक्निशियन के 15 रिक्त पदों पर भर्ती के लिए विस्तृत अधिसूचना यहां क्लिक करें।

रेगिस्तान चिकित्सा अनुसंधान केंद्र ( DMRC ) का परिचयः

रेगिस्तान चिकित्सा अनुसंधान केंद्र (डीएमआरसी) भारत में एक जैव चिकित्सा अनुसंधान संस्थान है। 1984 में स्थापित, यह संगठन भारत सरकार के स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय, भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) का हिस्सा है। यह रेगिस्तानी क्षेत्रों से संबंधित स्वास्थ्य मुद्दों पर केंद्रित है, खासकर जब इन क्षेत्रों में विकास हो रहा है। इस संगठन की स्थापना डॉ बी एस चाैहान ने की थी।

Related Stories