महिलाओं का एक क्लब ऐसा भी जो हर जरूरतमंद की सेवा में जुटा हुआ

|

Published: 08 Mar 2021, 10:00 PM IST

-अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस विशेष...



झालावाड़.जिले में लंबे समय से समाज सेवा के काम में जुटे महिलाओं का एक संगठन जो समय-समय पर जरूरतमंद लोगों की सेवा में जुटा रहता है। अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर जानते है, उन्हीं के अनुभव व समाज सेवा के जज्बे को।
१.हमारा क्लब गरीब लोगों की सेवा के लिए हमेशा तत्पन रहता है। समाज में गरीब महिलाओं को आगे लाने, महिला शक्तिकरण सहित बालिकाओं व जरूरत मंद के लिए काम करते हैं।
आकांक्षा पाटनी, अध्यक्ष इनर व्हील क्लब।

२. महिला दिवस पर मेरा संदेश है कि मुस्कराहट, दर्दभुलाकर, रिश्तों में बंद थी, दुनिया सारी, हर पग को रोशन करने वाली वो शक्ति है एक नारी। इनर व्हील क्लब बालिका शिक्षा को महत्व देते हुए आर्थिक रूप से कमजोर मेधावी छात्राओं को शिक्षा के लिए सहयोग करता है।
मंजुला विजयवर्गीय, कोषाध्यक्ष इनर व्हील क्लब।

३.महिला दिवस पर मेरा यही कहना है कि महिलाओं को बहुत समझदारी से अपनी मर्यादा में रहकर कार्य करना चाहिए।आने वाली पीढ़ी के लिए एक मिसाल बने क्योकि जो काम हम नहीं कर सकते वो हमारे द्वारा जन्म दिए गए पुरुष करते हैं। इसलिये हर किसी के जीवन में महिलाओं का होना अत्यंत आवश्यक है, महिलाओं में ही देखभाल ए स्नेह व अत्यधिक प्रेम करने की शक्ति होती है। महिला एक साधारण मनुष्य नहीं, सम्पूर्ण जगत की शक्ति है। इसी सोच के साथ हम जरूरत मंदों की सेवा करते है।
लीला जैन, सचिव इनर व्हील क्लब।

४.हमारा क्लब महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए उन्हें सिलाई कढ़ाई का प्रशिक्षण शिविर आयोजित कर प्रदान कर रहा है। आधुनिक शिक्षा के लिए कंप्यूटर का प्रशिक्षण भी दिलवा रहा है, ताकि बालिकाएं आगे जाकर अपने पैरों पर खड़ी हो सके।
अंजू सोनी, इनरव्हील क्लब ।


५. ८ मार्च महिला दिवस के रूप में मनाया जाता है। जबकि 365 दिन ही महिलाओं के अपने हैं। महिला सशक्तिकरण के लिए सबसे जरूरी है उसका शिक्षित होना एक महिला शिक्षित होती है तो वह दो घरों को शिक्षित करती है हमारे क्लब द्वारा ज्यादा से ज्यादा यही कोशिश की जाती है कि हम जो भी जरूरतमंद लड़कियां हैं उन्हें पढऩे के लिए आर्थिक सहयोग दें । जो कि हम करते हैं और यह एक संस्था के द्वारा ही नहीं हर महिला के अंदर की भावना होनी चाहिए
विभा जैन,प्रथम अध्यक्ष।

६. 8 मार्च के रूप में महिला दिवस मनाने का उदे्देय तभी सार्थक होगा जब हम ज्यादा से ज्यादा महिलाओं को रोजगार उपलब्ध करवाएं ताकि हर महिला पुरूषों के साथ कदम से कदम मिलाकर अपना घर सही से चला सकें।
शुकुन्तला जैन, पूर्व अध्यक्ष इनर व्हील क्लब।


७.8 मार्च का दिन हम महिलाओं के लिये एक विशेष दिन है, हम को गर्व है की हम एसे समाज व देश में हुए जहां महिलाओं की विशेष तौर पर इज्जत की जाती रही है। झांसी की रानी,अहिल्या देवी ने यह कर के दिखाया हम ऐसे ही क्लब के सद्स्य हैं जहां महिलाओं को महिलाओ के लिए कुछ भी करने की आजादी है, इसी की बदोलत हम समाज सेवा में जुटे हुए है।
कविता जैन,इनर व्हील क्लब सदस्य।

८.महिला दिवस पर मैं यह कहना चाहती हूं कि चुनौती बदलाव के लिए महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए शिक्षा, सामाजिक, राजनैतिक, आर्थिक व सांस्कृतिक क्षेत्रों में बराबर का अधिकार मिलना चाहिए।महिलाओं को घरेलू हिंसा से संबंधित कानून व आत्मरक्षा की पूर्ण जानकारी देने चाहिए ताकि किसी के साथ भेदभाव नहीं हो।
डॉ.सुषमा पांडे,संरक्षक इनर व्हील क्लब,झालावाड़।

गायत्री परिवार की समाजसेविकाओं का किया सम्मान
झालावाड़. गायत्री मंदिर पर सोमवार को महिला दिवस के मौके पर इनरव्हील क्लब द्वारा वहां निस्वार्थ सेवाएं देने वाली तारादेवी, देवेन्द नाथावत,सुशीला दाधीच, गायत्री सोनी,चन्द्रकला, आदर्श पोरवाल, नीमल भाटिया,मोक्षबाला, शुकुन्तला सुयन रेखा सोती, माधुरी नागर, सुनिता चौधरी का क्लब द्वारा शॉल ओढ़ाकर क्लब द्वारा आर्थिक सहयोग प्रदान किया गया। क्लब अध्यक्षा आकांक्षा पाटनी ने स्वागत भाषण दिया।इस मौके पर लीला जैन, अंजू सोनी, मंजुला विजय, विभा जैन,कविता जैन, सुनीता रावत, शशि अग्रवाल, मीनल अग्रवाल, शिल्पी जैन, स्वाति विजय ,सुनीता माथुर, प्रभा भंडारी, अमिता पवार, अनीशा जैन, रचना जैन,डॉ. सुषमा पांडे,उर्मिला जैन आदि मौजूदरही।संचालन विभा जैन ने किया।