उद्घाटन में न बुलाए जाने पर भड़के भाजपा विधायक, शिलापट्ट पर नाम न देख हुए आग बबूला

|

Published: 27 Dec 2020, 11:31 AM IST

  • जौनपुर के बदलापुर से भाजपा विधायक हैं रमेश चन्द्र मिश्रा (BJP MLA Ramesh Chandra Mishra)
  • शहीद स्मारक प्रवेश द्वार के उद्घाटन (Inaugration) में न बुलाए जाने पर हुए नाराज
  • मौके पर पहुंचकर लगाई अधिकारियों को फटकार, कार्यक्रम हुआ रद

उद्घाटन में न बुलाए जाने पर भड़के भाजपा विधायक, शिलापट्ट पर नाम न देख हुए आग बबूला

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

जौनपुर. शहीद स्मारक के प्रवेश द्वार के उद्घाटन कार्यक्रम में निमंत्रण न मिलने से बदलापुर के बीजेपी विधायक रमेश चन्द्र मिश्र (BJP MLA Ramesh Chandra Mishra) आग बबूला हो गए। शहीद स्मारक (Shaheed Smarak) पर शनिवार दोपहर पहुंच कर बीडीओ और सबंधित अधिकारियों पर खूब बरसे। हवन- पूजन के लिए बनाई गई बेदी के पास बिछाए गए गद्दों को लात मारकर दूर फेंक दिया। बीडीओ को भी सबके सामने फटकारने लगे। शिलापट्ट पर अपना नाम भी न लिखा देखकर उनका गुस्सा सातवें आसमान पर पहुंच गया। हालांकि इस उठा-पटक के चलते कार्यक्रम रद हो गया।

इसे भी पढ़ें- स्मृति ईरानी की राह पर अखिलेश, आजमगढ़ में बनाएंगे अपना आशियाना
बदलापुर विधानसभा क्षेत्र के धनियामऊ निवासी जमींदार सिंह (Zameendar Singh) 16 अगस्त 1942 को शाहिद हुए थे। इस दिन वे अग्रेजों को रोकने के लिए अपने साथियों संग धनियामऊ पुल को तोड़ रहे थे। उसी समय अंग्रेजों ने उन्हें गोली मारकर शहीद कर दिया था। उनके कई साथी भी शहीद हुए थे। उन्ही शहीदों का स्मारक बनवाया गया था। वहां शनिवार को शहीद जमीदार सिंह के नाम पर प्रवेश द्वार का उद्घटान होना था। सारी तैयारी हो चुकी थी। तभी बदलापुर विधायक रमेश चंद मिश्र वहां पहुंच गए। शहीद स्मारक पर पहुंचकर बीडीओ और सबंधित अधिकारियों पर जमकर बरसने लगे।

इसे भी पढ़ें- यूपी के पंचायत चुनाव में उतरेगी भीम आर्मी, चंद्रशेखर ने आजमगढ़ में योगी सरकार पर बोला हमला

हवन- पूजन के लिए बनाई गई बेदी के पास बिछाए गए गद्दों को लात मारकर दूर फेंक दिया। विधायक रमेश मिश्रा ने जिला प्रशासन पर शासनादेश के खिलाफ कार्य करने का आरोप लगाना शुरू कर दिया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पूरे मामले से अवगत कराने की कही बात। विधायक के अनुसार 1 साल पहले उन्होंने शहीद स्मारक के सुंदरीकरण के लिए खण्ड विकास अधिकारी को पत्र दिया था। मनरेगा के तहत सारा कार्य हुआ था, लेकिन शिलापट्ट में विधायक का नाम नहीं दिया गया और न ही उद्घाटन कार्यक्रम की विधायक को निमंत्रण (No Invitation) भेजा गया।

By Javed Ahmad