सुमेरपुर के व्यापारी से लूटे थे लाखों रुपए, जालोर पुलिस ने 5 को पकड़ा

|

Published: 19 Mar 2021, 09:50 AM IST

जालोर पुलिस ने सुमेरपुर के व्यापारी के साथ लूट के मामले में गुरुवार को 5 बदमाशों को पकडऩे में सफलता हासिल की है

सुमेरपुर के व्यापारी से लूटे थे लाखों रुपए, जालोर पुलिस ने 5 को पकड़ा

जालोर. जालोर पुलिस ने सुमेरपुर के व्यापारी के साथ लूट के मामले में गुरुवार को 5 बदमाशों को पकडऩे में सफलता हासिल की है। इन बदमाशों ने गत 14 मार्च को सुमेरपुर के व्यापारी शंकरलाल पुत्र दानाराम घांची से 4 लाख रुपए लूटे थे। इस मामले में पुलिस ने तड़वा निवासी महेन्द्रसिंह पुत्र शंकरसिंह, रोपसी निवासी सांवलाराम पुत्र कलाराम चौधरी, अरणु निवासी कुलदीपसिंह पुत्र आसुसिंह, धोराढाल घांचियों का चौहटा निवासी श्रवण पुत्र जबराराम बंजारा व सायला निवासी नारायणसिंह पुत्र छैलसिंह को गिरफ्तार किया है। वहीं इनसे पूछताछ कर वारदात में शामिल अन्य अपराधियों की तलाश की जा रही है।
यह था मामला
सुमेरपुर व्यापारी शंकरलाल घांची गत 14 मार्च 2021 को मोटरसाइकिल पर रुपए कलेक्शन के लिए सायला आया था। कलेक्शन के बाद वापस जाते समय कुछ बदमाशों ने व्यापारी का पीछा किया और सुनसान जगह पर व्यापारी को रुकवाकर उसके साथ मारपीट की। इस दौरान आरोपियों ने उसके पास से कलेक्शन के 4 लाख रुपए लूट लिए और व्यापारी को घायल कर मौके से फरार हो गए थे।
ऐसे दिया लूट की वारदात को अंजाम
पुलिस के अनुसार इन बदमाशों ने व्यापारी की रैकी की। इसके बाद इन्होंने उसका पीछा करना शुरू किया। जैसे ही व्यापारी रुपयों का कलेक्शन कर वापस जाने लगा तो सुनसान जगह पर कार से व्यापारी की मोटरसाइकिल को टक्कर मार दी। उसके बाद उसके साथ मारपीट कर लूट की वारदात को अंजाम दिया। इसी तरह आरोपी लूट के बाद अपने अपने हिस्से की राशि का बंटवारा करते और अलग-अलग काम-धंधे में लग जाते थे। जिससे पुलिस को इन पर शक ना हो।
ऐसे पकड़ में आए बदमाश
पुलिस के अनुसार सभी बदमाश काफी शातिर हैं। ये सभी फोन कॉल की बजाय वॉट्सएप कॉल या चैटिंग से आपस में एक दूसरे से कम्युनिकेशन करते थे। पुलिस को चकमा देने व वारदात को अंजाम देने के लिए आरोपी वॉट्सएप कॉलिंग का प्रयोग करते थे। पुलिस की तकनीकी टीम ने इन्हें वॉट्सएप कॉलिंग व चैटिंग से ट्रेस आउट कर गिरफ्तार कर लिया।
इनकी भूमिका रही कारगर
लूट की इस वारदात में वॉट्सएप कॉल व चैटिंग को ट्रेस आउट करने में जालोर पुलिस थाने के सहायक उपनिरीक्षक अमरसिंह व साइबर सेल के किशन गहलोत की मुख्य भूमिका रही।