कृषि कानूनों के विरोध में राहुल गांधी की रैली आज से, 5000 ट्रैक्टर शामिल होंगे

|

Updated: 04 Oct 2020, 10:06 AM IST

तीन दिन चलेगी ट्रैक्टर रैली, 52 किलोमीटर की यात्रा तय होगी

सुरक्षा के लिए 10 हजार जवान तैनात, कई बड़े नेता शामिल होंगे

चंडीगढ़। कृषि कानूनों के विरोध में कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी की ट्रैक्टर रैली आज से शुरू हो रही है। यह रैली छह अक्टूबर तक चलेगी। पहले यह रैली तीन से पांच अक्टूबर तक होनी थी। रैली में पांच हजार ट्रैक्टर शामिल होंगे। हजारों किसान भी शामिल होंगे। रैली कुल 52 किलोमीटर की यात्रा करेगी। इसे देखते हुए 10 हजार पुलिस जवान तैनात किए गए हैं। पंजाब पुलिस के महानिदेशक दिनकर गुप्ता स्वयं सुरक्षा की निगरानी कर रहे हैं।

बड़े नेता रहेंगे साथ

ट्रैक्टर रैलियों में अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव और पंजाब प्रभारी हरीश रावत, पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह, पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष सुनील जाखड़, पंजाब सरकार के सभी मंत्री, विधायक और किसान भाग लेंगे। मुख्यमंत्री का कहना है कि कृषि कानून किसानों को पीड़ा देने वाले हैं। इनके कारण किसानों का भविष्य दांव पर लगा दिया गया है। केन्द्र सरकार को यह बताना जरूरी है कि किसान कृषि कानूनों के खिलाफ हैं।

चार अक्टूबर का कार्यक्रम

4 अक्टूबर को ट्रैक्टर रैली मोगा जिले में लोपन गांव से गुजरने से पहले मोगा जिले के निहाल सिंह वाला उप-मंडल में बदनी कलां में एक सार्वजनिक बैठक के साथ शुरू होगी। कुल 22 किमी की दूरी तय करेगी। इसके बाद यह रैली लुधियाना जिले के जगराओं इलाके में जाएगी, जहां यह लुधियाना जिले के रायकोट के पास जट्टपुरा गांव में समाप्त होते हुए चकर, लखा और मनोक गांवों से गुजरेगी।

पांच अक्टूबर का कार्यक्रम

5 अक्टूबर को कुल 20 किमी की दूरी तय की जाएगी। शुरुआत बरनाला चौक, संगरूर में एक स्वागत कार्यक्रम से होगी, जहां से राहुल गांधी और उनकी टीम पटियाला जिले के समाना में ट्रैक्टरों को खड़ा करने से पहले एक सार्वजनिक बैठक के लिए भवानीगढ़ तक कार से जाएगी। राहुल समाना शहर में अनाज मंडी में एक सार्वजनिक बैठक के साथ दिन की समाप्ति से पहले कुछ समय के लिए फतेहगढ़ छाना और बह्मना गांवों में रुकेंगे।

छह अक्टूबर का कार्यक्रम

6 अक्टूबर को, पटियाला जिले के दुधन सधन गांव से एक सार्वजनिक बैठक के साथ रैली शुरू हो जाएगी। ट्रैक्टर रैली 10 किमी पिहोवा सीमा पर जाएंगी। वहां से राहुल गांधी पड़ोसी राज्य हरियाणा में प्रवेश करेंगे। हरियाणा सरकार उन्हें रोकने पर आमादा है। कांग्रेसी हरियाणा में जाकर विरोध करने के लिए कटिबद्ध हैं।