पर्यटन मंत्री Vishvendra Singh ने पहले किया 'बेबाक' ट्वीट, फिर किया Delete! जानें पूरा मामला

|

Published: 04 Jul 2020, 09:27 AM IST

मंत्री विश्वेन्द्र सिंह ( Vishvendra Singh ) ने शुक्रवार को एक ऐसी ही बेबाक टिप्पणी करने के कुछ देर बाद ही उसे हटा दिया। दरअसल, हटाई गई टिप्पणी में मंत्री विश्वेन्द्र ने खुद के पर्यटन महकमें के पूर्व अधिकारियों की कार्यशैली पर गहरी नाराजगी जताई थी।

जयपुर।

पर्यटन मंत्री विश्वेन्द्र सिंह ( Vishvendra Singh ) इन दिनों ट्विटर पर कुछ ज़्यादा ही सक्रीय दिख रहे हैं। खासतौर से अपनी बेबाक टिप्पणियों को लेकर वे खासा सुर्खियाँ बटोर रहे हैं। लेकिन शुक्रवार को उन्होंने एक ऐसी ही बेबाक टिप्पणी करने के कुछ देर बाद ही उसे हटा दिया। दरअसल, हटाई गई टिप्पणी में मंत्री विश्वेन्द्र ने खुद के पर्यटन महकमें के पूर्व अधिकारियों की कार्यशैली पर गहरी नाराजगी जताई थी।

ये है पूरा मामला
मंत्री विश्वेन्द्र सिंह ने आइएएस अफसरों की तबादला सूची जारी होने के बाद एक के बाद एक कई ट्वीट्स कर अपनी प्रतिक्रिया ज़ाहिर की। इन्हीं में से एक ट्वीट में मंत्री विश्वेन्द्र ने एक मीडिया ट्वीट को री-ट्वीट करते हुए अपनी ‘बेबाक’ प्रतिक्रिया दे डाली।

उन्होंने इस प्रतिक्रिया में दो आइएएस अफसरों की कार्यशैली पर नाराजगी जताई। ये दो आइएएस अफसर पर्यटन विभाग के प्रमुख सचिव और निदेशक पद पर रहे पर ताज़ा आई तबादला सूची में सरकार ने उनका ट्रांसफर कर दिया।

ये लिखा री-ट्वीट प्रतिक्रिया में
मंत्री विश्वेन्द्र ने मीडिया ट्वीट को री-ट्वीट करते पूर्व के अधिकारियों के लिए लिखा, ‘‘पहले के प्रमुख सचिव और निदेशक में रचनात्मक सोच का अभाव था, मेरे विभाग में ऐसे अधिकारियों के लिए कोई जगह नहीं है।‘’ लेकिन कुछ देर बाद ही उनका ये ट्वीट हटा दिया गया।

आइएएस आलोक की जमकर की तारीफ
वहीँ पर्यटन मंत्री ने पर्यटन विभाग में नए प्रमुख सचिव लगाए गए आइएएस आलोक गुप्ता की जमकर तारीफ की। उन्होंने गुप्ता की तारीफ में ट्वीट प्रतिक्रिया में लिखा, ‘’आलोक गुप्ता देवस्थान विभाग में कुछ समय से मेरे साथ काम कर रहे हैं, वे एंबेस्डर कार को रोल्स रॉयस की तरह दौडाते हैं। मुझे उम्मीद है कि वे पर्यटन विभाग में भी कुछ इसी तरह का काम करेंगे।‘’

वहीं ट्रांसफर लिस्ट में डीग एसडीएम का तबादला होने पर उन्होंने खुलकर नाराजगी भी जताई। एक ट्वीट में उन्होंने लिखा, ‘’हे भगवान! एसडीएम कुम्हेर का ट्रांसफर कर दिया गया, आखिर हम निरंतरता क्यों नहीं रख सकते? वे इतना बेहतरीन काम कर रहे थे।’’