रेंटल सेवा से हजारों किसानों को हुआ लाभ

|

Published: 05 Jun 2020, 12:20 AM IST

जयपुर। ट्रैक्टर निर्माता कंपनी ट्रैक्टर्स एंड फार्म इक्विपमेंट लिमिटेड ( Tractors and Farm Equipment Limited ) (टैफे) ने राजस्थान ( farmers in Rajasthan ), उत्तर प्रदेश और तमिलनाडु में किसानों के लिए अपने जेफार्म सर्विसेज प्लेटफॉर्म के माध्यम से मुफ्त ट्रैक्टर रेंटल सेवा ( tractor rental service ) शुरू की थी। 90 दिनों के लिए चलाई जा रही यह सेवा 30 जून 2020 तक जारी रहेगी। इस स्कीम को किसान समुदाय ( farming community ) से अति उत्साहजनक प्रतिक्रिया मिली और इसके लागू होने के 60 दिनों के अंदर ही एक ल

टैफे द्वारा इस सामाजिक पहल का उद्देश्य किसान समुदाय को कोविड-19 के आर्थिक प्रभाव से बचाना है तथा रबी की महत्वपूर्ण फसलों की कटाई और खरीफ की फसलों की तैयारी के मौसम के दौरान छोटे और सीमांत किसानों की आजीविका पर कोरोना वायरस के प्रभाव को कम करना है। टैफे ने मैसी फग्र्यूसन और आयशर ट्रैक्टर के 18,000 ग्राहकों और लगभग 75,000 कृषि उपकरण मालिकों के साथ जेफार्म सर्विसेज की मुफ्त ट्रैक्टर रेंटल स्कीम लॉन्च की, ताकि कल्टिवेटर, रोटरी टिलर, डक-फुट कल्टिवेटर, ***** हल, ***** हैरो, मोल्ड बोर्ड हल, थ्रेशर और कई अन्य उपकरणों को उपलब्ध कराया जा सके।
जेफार्म सर्विसेज प्लेटफार्म ने ट्रैक्टर एवं कृषि उपकरणों में वृद्धि दर्ज करते हुए 38,900 मैसी फग्र्यूसन और आयशर ट्रैक्टर्स तथा 1,06,500 उपकरणों का पंजीकरण, किराए पर उपलब्ध कराने हेतु किया। टैफे ने राजस्थान, उत्तर प्रदेश और तमिलनाडु के राज्य सरकारों के कृषि विभागों से मिले प्रशासनिक समर्थन के साथ, छोटे और सीमांत किसानों के लिए इस मुफ्त ट्रैक्टर रेंटल स्कीम को सफलतापूर्वक लागू किया। जेफार्म सर्विसेज के माध्यम से किराए पर
ट्रैक्टर देने का लागत मूल्य, टैफे द्वारा सीधे किसानों को अदा किया गया। इससे ट्रैक्टर मालिकों को अपनी आय बढ़ाने में काफी मदद मिली है, जिसका ट्रैक्टर मालिकों और छोटे किसानों दोनों ने स्वागत किया है। आईएएस ओम प्रकाश एग्रिकल्चर कमिशनर, डिपार्टमेंट ऑफ एग्रिकल्चर, राजस्थान सरकार ने कहा कि राजस्थान के किसानों को मुफ्त किराए के आधार पर मैसी फग्र्यूसन और आयशर ट्रैक्टर प्रदान करने की टैफे की इस अनूठी पहल को कृषक समुदाय द्वारा गहराई से सराहा गया है। छोटे किसान अपनी फसलों की कटाई और नए सत्र के लिए रोपण करने के लिए कोरोना वायरस लॉकडाउन के कारण संकट की स्थिति में थे। यह योजना सबसे उपयुक्त समय पर उनके हित में आईए जिससे उन्हें अपने कृषि संचालन कार्यों में मदद मिली और ट्रैक्टर किराए के माध्यम से आय भी हुई। राजस्थान के नागौर के एक छोटे किसान जेठाराम ने बताया कि लॉकडाउन लागू हुआ तब मेरे पास 2.5 एकड़ का गेहूं कटाई के लिए तैयार था और मैंने इस सीजन में अपनी फसल पाने की सभी उम्मीदें खो दी थी। मेरे गांव के एक किसान, जिनके पास मैसी फग्र्यूसन ट्रैक्टर है, उन्होंने टैफे के जेफार्म सर्विसेज पर मुझे पंजीकरण करने में मदद की, जिससे मेरी फसलों की कटाई और थ्रेशिंग सही समय परए एकदम नि:शुल्क हुई। इस स्कीम के अंतर्गत मैंने जेफार्म सर्विसेज प्लेटफॉर्म के माध्यम से अपने मैसी ट्रैक्टर को किराए पर दिया और अपने गांव के 15 से 20 खेतों की जुताई की।