ग्रामीण क्षेत्रों में संचालित हो रहे स्कूल , शहरी क्षेत्र में पहली से नवीं तक की कक्षाएं बंद

|

Published: 09 Apr 2021, 09:16 PM IST

क्या ग्रामीण क्षेत्रों के बच्चों पर नहीं है कोविड का खतरा

ग्रामीण क्षेत्र के स्कूलों को भी बंद किए जाने की मांग

कोविड के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए गृह विभाग की ओर से जारी की गई गाइडलाइन का असर शहरी क्षेत्र के बच्चों के साथ साथ ग्रामीण क्षेत्र के स्कूली विद्यार्थियों पर भी पड़ रहा है। जहां एक ओर शहरी क्षेत्र के बच्चों की पढ़ाई बाधित हुई है तो दूसरी ओर ग्रामीण क्षेत्रों में भी कोविड का खतरा बढ़ रहा है। ऐसे में अब प्रदेश के शिक्षक संगठन ग्रामीण क्षेत्र के स्कूलों को भी बंद किए जाने की मांग कर रहे हैं। गौरतलब है कि मौजूदा गाइडलाइन की पालना के तहत एक लाख से अकिधक आबादी वाले क्षेत्र के पहली से 9वीं कक्षा तक स्कूल बंद हैं लेकिन ऐसे ग्रामीण क्षेत्र जहां की आबादी एक लाख से कम है वहां स्कूल खुले हैं।
यह थे सरकार के आदेश
हाल में गृह विभाग की ओर से जारी की गई गाइडलाइन में सिनेमा हॉल, क्लब जिम, स्वीमिंग पूल आदि बंद करने के आदेश दिए गए थे। साथ ही शहरी क्षेत्रों में पहली से नवीं कक्षा और कॉलेजों में यूजी पीजी फाइनल को छोडकऱ सभी कक्षाओं को बंद करने के आदेश दिए गए थे।
यह आ रही परेशानी
गृह विभाग की ओर से जारी किए गए इस आदेश से पूर्व पहली से पांचवीं तक के स्कूल तो पहले से ही बंद चल रहे थे लेकिन इस आदेश के जारी होने के बाद शहरी क्षेत्र के छठीं से नवीं तक के स्कूल बंद कर दिए गए। लेकिन देखने में आया है कि शहरों के पास के गांवों में ऐसे कई स्कूल हैं जहां बहुत से बच्चे शहर से पढऩे जाते हैं। इतना ही नहीं ग्रामीण क्षेत्रों के स्कूल में अध्यापन के लिए जाने वाले अधिकांश शिक्षक भी शहरी क्षेत्र से ही ग्रामीण इलाकों में जाते हैं। ऐसे में कोविड के संक्रमण की संभावनाएं ग्रामीण क्षेत्र में भी बढ़ रही हैं।
संस्कृत शिक्षामंत्री ने भी उठाया था मुद्दा
आपको बता दें कि हाल ही में संस्कृत शिक्षामंत्री डॉ. सुभाष गर्ग ने भी सीएम के साथ हुई बैठक में इस मुद्दे को उठाया था। उन्होंने कहा कि था शहरी क्षेत्रों से सटे हुए ग्रामीण इलाकों के स्कूलों में शहरी सीमा से सटे हुए काफी बच्चे स्कूल जाते हैं। उन्होंने कहा था इन स्कूलों को भी बंद किया जाना चाहिए जिससे कोविड के खतरे को कम किया जा सके।
राजस्थान प्राथमिक और माध्यमिक शिक्षक संघ के प्रदेश मंत्री अजंनी कुमार ने कहा है कि कोविड के बढ़ते खतरे को देखते हुए सरकार को ग्रामीण क्षेत्र के स्कूलों को भी बंद करना चाहिए क्योंकि वहां पढ़ाने के लिए शहरी क्षेत्र से शिक्षक जाते हैं जो कभी भी कोविड संक्रमण के वाहक हो सकते हैं।