मानसून मेहरबान, छबड़ा में 215 मिमी बारिश, टापुओं पर फंसी आठ महिलाओं समेत नौ जनों को सुरक्षित निकाला

|

Published: 27 Jul 2021, 08:01 PM IST

बारां, कोटा, अजमेर, टोंक, सवाईमाधोपुर सहित कई जिलों में अच्छी बारिश, हाड़ौती में मूसलाधार बारिश, चंबल-पार्वती नदी में आया 10-15 फीट पानी, अलवर में साहबी नदी में फिर आया पानी

जया गुप्ता / जयपुर। पूर्वी राजस्थान पर इन दिनों मानसून मेहरबान है। मंगलवार को भी बारां, कोटा, अजमेर, टोंक, सवाईमाधोपुर सहित कई जिलों में अच्छी बारिश हुई। बादलों की आवाजाही तो लगभग पूरे प्रदेश में रही। पिछले 24 घंटों में सर्वाधिक बारिश छाबड़ा, बारां में 215 मिमी दर्ज की गई। वहीं पश्चिमी राजस्थान के चुरू तहसील व नोहर हनुमानगढ़ में 90 मिमी बारिश हुई। अति भारी बारिश से नदी-नाले उफन गए। चम्बल के बड़े बांधों में भी पानी की आवक हो रही है। कई मनोरम झरने बह निकले।

बारां जिले में नदी, नालों के उफान पर रहने से दर्जनों गांव टापू बने रहे। इन गांवों के बाशिंदों का निकट के कस्बों व शहरों से सम्पर्क कटा रहा। जालेड़ा व हनोतिया गांव के मध्य धान की रोपाई के लिए गई आठ महिलाएं पार्वती नदी में उफान के कारण एक मंदिर में बैठी रहीं। बाद में बारां से सदर थाना पुलिस व एसडीआरफ की टीम ने इन्हें सुरक्षित निकाला।

वहीं छबड़ा उपखंड के कोल्हूखेड़ा गांव के निकट भैंस चराने गया एक चरवाहा अंधेरी व ल्हासी नदी में उफान के चलते एक टापू पर फंस गया। उसे एसडीआरएफ की टीम ने 24 घंटे बाद बाहर निकाला। मध्यप्रदेश के सीमावर्ती जिलों में हो रही भारी बारिश से छोटी-बड़ी नदियां उफान पर आ गई हैं। पार्वती वेस्टवियर पर 7 फीट, परवन पिकअपवियर पर 7.20 व तुलसां लिफ्ट परियोजना पर 4 फीट की चादर चल रही थी।

वहीं कोटा में सोमवार शाम 6 बजे शुरू हुआ बारिश का दौर मंगलवार शाम 4 बजे तक चला। चंबल, पार्वती नदी में 10-15 फीट पानी आने से कोटा-श्योपुर, खातौली-सवाईमाधोपुर मार्ग बंद है। बूंदी में भी दिनभर बारिश रही। बांधों में भी पानी की आवक हुई। लाखेरी क्षेत्र में मेगा हाइवे से रेबारपुरा ढगारिया को जाने वाली संपर्क सड़क पर डपटा खाळ की पुलिया पर पानी आने से आधा दर्जन से अधिक गांवों का संपर्क मेगा हाइवे से कट गया। नयागांव पापडी स्थित मेज नदी पर एनिकट पर चादर चलना शुरू हो गई है। वहीं चांदा का तालाब बांध 21.75 फीट भर गया है। बांध की भराव क्षमता 24.60 फीट है।

वहीं झालावाड़ में भालता क्षेत्र की छापी नदी की पुरानी पुलिया के ऊपर करीब 2 फीट तक पानी आ गया। खेतों में पानी भर गया। आवर के पगारिया क्षेत्र में आहू व क्यासरी नदी में उफान आने से आवर-पगारिया मार्ग बंद है। इसके साथ ही अलवर जिले में साहबी नदी एक बार फिर चली।