जयपुर पुलिस का सायबर सुरक्षा जागरूकता अभियान

|

Published: 07 Dec 2020, 09:45 PM IST

सायबर क्राइम को रोकने के लिए पुलिस और एचडीएफसी की पहल

वर्तमान समय में ऑनलाईन लेन-देन, शॉपिंग आदि में दिन-प्रतिदिन वृद्धि होती जा रही है। जिससे डिजिटलाईजेशन को सरकारों की मंशा के अनुरूप बढावा मिल रहा है। लेकिन इसका एक दूसरा नकारात्मक पहलू बड़े स्तर पर सायबर धोखाधडी के रूप में सामने आ रहा है। सायबर अपराधी एक सुनियोजित रेकेट के माध्यम से लालच देकर अथवा कोई भय दिखाकर (जैसे खाता बंद हो जाने, एटीएम ब्लॉक हो जाने) लोगों के बैंक खातों के विवरण अथवा व्यक्तिगत जानकारी जैसे एटीएम कार्ड के नम्बर व सीवीवी नम्बर, ओटीपी, पिन आदि फोन पर ही अपनी बातों के जाल में फसाकर प्राप्त कर लेते है।इसी सूचना के आधार पर लोगों के खातों से रकम निकाल लेते है। इसके अलावा सायबर अपराधियों की ओर से फर्जी वेबसाईट तैयार कर गलत लिंक भेजकर लोगों के बैंक खातों/क्रेडिट कार्डस् की सूचनाएं प्राप्त कर उनके साथ आर्थिक धोखाधडी कर लेते है। पुलिस आयुक्त आनन्द श्रीवास्तव, अति॰पुलिस आयुक्त (प्रथम) अजयपाल लांबा, अति पुलिस आयुक्त (द्वितीय) राहुल प्रकाश और एचडीएफसी बैंक के सेन्ट्रल इण्डिया हैड प्रतीक शर्मा व राजस्थान सर्किल हैड प्रीयांक विजय जयपुर कलस्टर हैड करण सिंह ने सायबर अपराधो की रोकथाम के लिए आम जन जागरूक करने के लिए जयपुर पुलिस व एचडीएफसी बैंक की ओर से किए जा रहे समन्वित प्रयासों पर प्रकाश डाला।उन्होंने बताया कि वर्तमान समय पर प्रचलित सायबर अपराधों की रोकथाम के लिए सबसे बडी आवश्यकता आम जनता को जागरूक करने की है क्योंकि एनसीआरबी के 2019 के आकडों के अनुसार जयपुर सायबर अपराधो के मामलो में देश में पांचवे स्थान पर है। देश प्रदेश में आज भी एक बहुत बड़ा वर्ग तकनीकी रुप से कम जागरूक है। इसलिए सायबर धोखाधड़ी के मामलों के बारे में लोगों को अधिक से अधिक जागरूक करके अपराधों में कमी लाई जा सकती हैं।