मौसम अपडेटः राजस्थान में आज जमकर होगी बारिश, भारी से अति भारी का अलर्ट

|

Updated: 27 Jul 2021, 01:09 PM IST

राजस्थान में भारी बारिश के साथ सावन का स्वागत किया गया है। मौसम विभाग के अनुसार उत्तर पश्चिमी राजस्थान पर बने परिसंचरण तंत्र सक्रिय होने से मंगलवार को राजस्थान के अधिकतर जिलों में झमाझम बारिश होगी।

जयपुर। राजस्थान में भारी बारिश के साथ सावन का स्वागत किया गया है। मौसम विभाग के अनुसार उत्तर पश्चिमी राजस्थान पर बने परिसंचरण तंत्र सक्रिय होने से मंगलवार को राजस्थान के अधिकतर जिलों में झमाझम बारिश होगी। कोटा, जयपुर और भरतपुर संभाग में भारी से अति भारी बारिश का अलर्ट किया गया है। वहीं उदयपुर, जोधपुर, बीकानेर संभाग में कही-कहीं भारी बारिश की संभावना है। उधर, 28 से 30 जुलाई के दौरान मानसून द्रोणिका रेखा के हिमालय की तरफ खिसकने से बारिश की गतिविधियो में कमी आएगी। जिससे मानसून की कमजोर पड़ सकता है। इसके चलते हल्की बारिश हो सकती है।

मौसम विभाग के अनुसार मंगलवार को राजस्थान में जयपुर, जयपुर शहर, अजमेर, बारां, बूंदी, भीलवाड़ा, चित्तौडगढ़, जयपुर, झालावाड़, कोटा, करौली, दौसा, धौलपुर, झुंझुनू, सीकर, सवाई माधोपुर, टोंक, चूरू, चित्तौड़गढ़, राजसमंद, सिरोही, उदयपुर, प्रतापगढ़, बांसवाड़ा, बीकानेर, अलवर, धौलपुर, भरतपुर, श्रीगंगानगर और नागौर में कहीं कहीं पर मेघगर्जन के साथ हल्की से मध्यम दर्जे बारिश हो सकती है। वहीं एक या दो स्थानों पर भारी से अति भारी बारिश का भी अनुमान है। उधर, कोटा संभाग में मंगलवार सवेरे से ही बारिश की झमाझम हो रही है। झालावाड़ और छबड़ा में अच्छी बारिश दर्ज की जा रही है। कोटा संभाग की कई नदियों में तेजी से पानी की आवक हो रही है, वहीं प्रदेश के सूखे बांध अब भरने लगे हैं। तेज बारिश के बाद बांसवाड़ा सहित प्रदेश के कई स्थानों पर झरने बह निकले हैं।

फिर बना कम दबाव का क्षेत्र
मौसम केन्द्र जयपुर के निदेशक आर.एस. शर्मा की माने तो मंगलवार को बंगाल खाड़ी में फिर से कम दबाव का क्षेत्र बन रहा है। इसके अगले 24 घंटों में और तीव्र होकर अगले तीन-चार दिन में धीरे-धीरे पश्चिम बंगाल, झारखंड व बिहार से होते हुए पश्चिम दिशा की ओर बढ़ने की संभावना है। इस तंत्र के प्रभाव से 30 या 31 जुलाई तक पूर्वी राजस्थान पर एक बार फिर से बारिश की गतिविधियां बढे़ंगी। अनुमान लगाया जा रहा है कि इस कम दबाव के क्षेत्र का असर कोटा व भरतपुर संभाग में सबसे ज्यादा रहेगा जिसके चलते वहां भारी बारिश की संभावना है। उस दौरा तीन-चार दिन तक भरतपुर संभाग में मेघ मेहरबान रहेंगे।

यहां दर्ज हुई झमाझम बारिश
मौसम विभाग के अनुसार छबडा में 215, अटरु में 118, बारां के ममें 145, बारां के उम्मेदसागर में 82, भरतपुर के पहरी में 94, भरतपुर के नगर में 80, डीग में 75, अलवर के मंडावर में 84, सोडावास में 65, बहादुरपुर में 62, बानसुर में 54,कोटकासिज्म में 50, टपूकरा में 48, बांसवाडा के माही डेम में 34, घाटोल में 31, बूंदी के नैनवां में 57, बूंदी में 27.8, चित्तौड के रावतभाटा में 37.8, चूरू में 90, चूरू के रतनगढ में 50, दौसा के बसवा में 54, डूंगरपुर के चिकली में 28, जयपुर के चौमूं में 67, जयपुर में 48, जयपुर के किशनगढ रेनवाल में 41, शाहपुरा में 40, कोटपुतली में 25, फागी में 20, झालावाड़ के गंगधर में 111, झालावाड़ के मनोहरथाना में 79, बखानी में 73, झालावाड़ में 64.6, कालीसिंध डेम में 64.5, झालरापाटन में 64, अखलेरा में 63, करौली के पंचाना डेम में 70, करौली में 70, हिंडौन में 39, श्रीमहावीरजी में 32, कोटा के सांगोद में 108, कोटा के सावन भादो में 51, कोटा के कानवास में 50, प्रतापगढ के पीपलकुंठ में 96, प्रतापगढ में 57, सीकर के फतेहपुर में 64 एमएम बारिश दर्ज की गई।