राजस्थान लॉकडाउन में जरूरतमंदों की मदद के लिए सरकार ने फैलाई झोली, मददगारों के बढ़े हाथ

|

Published: 23 Mar 2020, 06:34 PM IST

लॉक डाउन के और भी आगे तक बढ़ाए जाने से भी इनकार नहीं किया जा सकता। ऐसे में कई परिवारों को खाने का संकट भी खड़ा हो जाएगा। इसको देखते हुए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भामाशाहों से मदद के लिए आगे आने की अपील की

कोरोना वायरस से बचाव के लिए प्रदेश में लागू किए गए लॉक डाउन के कारण मजदूर और अन्य दिहाड़ी मजदूरों को आर्थिक संकट पैदा हो गया है। 31 मार्च तक चलने वाले इस लॉक डाउन के और भी आगे तक बढ़ाए जाने से भी इनकार नहीं किया जा सकता। ऐसे में कई परिवारों को खाने का संकट भी खड़ा हो जाएगा। इसको देखते हुए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भामाशाहों से मदद के लिए आगे आने की अपील की है। इस अपील के साथ ही आरपीएस, आईपीएस, आरएएस और आईएएस एसोसिएशन आगे आई है और एक दिन का का वेतन सीएम रिलीफ फंड में सौंपा है। इसके अलावा मंत्रालयिक कर्मचारी संघ ने भी एक दिन का वेतन मददगारों के लिए सीएम फंड में दिए जाने की घोषणा की है। वहीं पुलिस कमिश्नरेट के एडिशनल कमिश्नर अजयपाल लाम्बा ने दोपहर में जलेब चौक में जरूरतमंदों को भोजन के पैकेट का वितरण किया। इसके अलावा कई और जगहों पर भी इसी तरह जरूरतमंदों को कोरोना वायरस से बचने की हिदायत के साथ ही उनके दोनों समय का भोजन की व्यवस्था के लिए निर्देश दिए। जहां कोविड 19 से बचने के लिए लोग घरों में बंद है। काम धंधे ठप हो गए है वहीं ऐसे बहुत से परिवार है जिनको खाने के लिए रोजाना की मजदूरी की जरूरत होती थी। ऐसे परिवारों की जानकारी के लिए लोगों से अपील करते हुए पड़ोसियों को मदद करने का आह्वान किया है। मददगारों का सिलसिला शुरू तो हो गया, लेकिन इस फंड के जरिए किस तरह और कैसे मदद पहुंचाई जाएगी। इसको लेकर भी मंथन किया जा रहा है।