राजस्थान में दिखने लगा Cyclone Tauktae का असर, कई जिलों में बारिश

|

Updated: 18 May 2021, 11:24 AM IST

देश के दक्षिण और पश्चिमी राज्यों में चक्रवात तौकते भीषण तूफान में बदल गया है। गुजरात, महाराष्ट्र समेत अन्य जगहों पर इसका असर देखने को मिला।

जयपुर। देश के दक्षिण और पश्चिमी राज्यों में चक्रवात तौकते भीषण तूफान में बदल गया है। गुजरात, महाराष्ट्र समेत अन्य जगहों पर इसका असर देखने को मिला। भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) के मुताबिक बीते 24 घंटों के दौरान दक्षिण भारत में भारी बारिश और तेज हवाओं के कारण कई लोगों की मौत हो गई और कई घर बह गए।

यह मंगलवार को दक्षिणी पश्चिमी राजस्थान से प्रदेश में प्रवेश करेगा। मौसम विभाग के मुताबिक तूफान गुजरात के डीसा से प्रदेश में जालोर के भीनमाल और सिरोही के मध्य से गुजरेगा। आबू रोड और पाली इसके जद में रहेंगे। बाड़मेर जिले में बारिश होगी। वर्तमान में यह अत्यंत सीवियर साइक्लोनिक तूफान है, अब यह धीरे धीरे तीव्र चक्रवाती तूफान के रूप में परिवर्तित हो जाएगा। पांच जिलों में इसका सबसे ज्यादा असर हावी होगा।

जयपुर में बारिश का दौर शुरू
विभिन्न जगहों पर बारिश का दौर शुरू हो चुका है। इससे तापमान में गिरावट दर्ज की गई है। वही कोरोना के चलते चिकित्सा विभाग ने लोगो को विशेष ध्यान देने के लिए कहा है। फिलहाल दो दिन तेज बारिश की चेतावनी जारी की गई है। आपदा राहत समेत अन्य विभागों को अलर्ट किया गया है। ताकि कोई नुकसान न हो। राजधानी जयपुर की बात की जाए तो बदले मौसम के मिजाज का मिजाज सोमवार रात से देखने को मिल रहा है। लगातार जयपुर में बूंदाबांदी और ठंडी हवाओं का दौर जारी है।

मौसम विभाग जयपुर केंद्र के प्रभारी आरएस शर्मा ने बताया कि तौकते का ज्यादा असर दक्षिण राजस्थान के इलाकों पर रहेगा। मुख्य रूप से जोधपुर और उदयपुर संभाग के जिलों में भारी और अत्यधिक भारी वर्षा की संभावना है। उदयपुर और इसके आसपास के एक-दो स्थानों पर 200 एमएम से भी अधिक बारिश हो सकती है। बारिश के साथ ही दोनों संभागों में तेज तूफानी हवायें संभावित हैं जिनकी रफ्तार 50 से 60 किमी प्रति घंटा रह सकती है। आगामी तीन घण्टो के लिए सवाई माधोपुर, बूंदी, पाली, जोधपुर, चूरू, जयपुर, नागौर , सीकर, झुंझुनूं सहित अन्य जगहों के लिए हल्की से मद्यम दर्जे की बारिश का अलर्ट जारी किया है।

सभी विभाग अलर्ट
अरब सागर के ऊपर बने पश्चिमी विक्षोभ के दबाव के कारण चक्रवाती तूफान तौकते से बचाव और सतर्कता को लेकर आपदा प्रबंधन विभाग ने सभी संभागीय आयुक्त और जिला कलेक्टर्स को एडवाइजरी जारी करते हुए अलर्ट जारी किया है। अस्पतालों में बिजली आपूर्ति का ध्यान रखने, पावर सप्लाई बाधित होने की स्थिति में निजी अस्पतालों में उपलब्ध डीजी-सेट की उपलब्धता के लिए कहा है। ताकि मरीजों को कोई परेशानी न हो।

विमान सेवाएं भी प्रभावित
मौसम विभाग के अधिकारियों के मुताबिक एयरपोर्ट पर तौकते के चलते अलर्ट जारी किया है। विमानों के उतरने ओर रवानगी के लिए खास ध्यान रखा जा रहा है। जयपुर से अहमदाबाद-मुंबई जाने और आने वाली सात उड़ानों का संचालन बंद रहेगा। इसके साथ ही उदयपुर एयरपोर्ट पर भी विमानों की आवाजाही कुछ रूटों पर बंद रहेगी। एयरलाइन प्रबंधन के अधिकारियों के मुताबिक इसकी सूचना यात्रियो को दे दी गई है। सबसे ज्यादा असर मुंबई, गुजरात और दक्षिण से आने और जाने वाली उड़ानों पर पडेगा। हालात सामान्य होने पर फिर से विमान सेवाएं शुरू कर दी जाएगी।

20 मई को पड़ेगा कमजोर
यह सीवियर साइक्लाेन गुजरात के बाद डिप्रेशन सिस्टम के रूप में आगे बढ़ रहा है। प्रदेश में दक्षिणी-पश्चिमी जिलाें के रास्ते से प्रवेश करने के बाद यह तूफान उत्तरी-पूर्वी इलाकाें से हाेता हुआ गुजरेगा। इस दाैरान 20 जिलाें काे प्रभावित करेगा और 10 जिलाें में अत्यंत भारी बारिश हाेने का अनुमान है। बीते दिन उदयपुर, बांसवाड़ा, डूंगरपुर, माउंट आबू सहित कई स्थानाें पर तेज हवाओं के साथ बारिश हुई। 18-19 मई को तूफान का सर्वाधिक असर रहेगा। 20 मई काे यह तूफान उत्तरी पूर्वी इलाकाें की ओर आगे बढ़ते हुए कमजाेर पड़ जाएगा।

यहां के लिए अलर्ट
प्रदेश में डूंगरपुर, सिराेही, उदयपुर, जालाेर व पाली में सबसे ज्यादा— अति भारी बारिश और तेज हवाओं के लिए रेड अलर्ट जारी किया है। वहीं जयपुर, चित्ताैड़, बांसवाड़ा, अजमेर, प्रतापगढ़, राजसमंद, सिराेही, बाड़मेर, जैसलमेर, जाेधपुर, भीलवाड़ा, दाैसा, अलवर, नागाैर, चूरू, बीकानेर, झुंझुनूं, सीकर, टोंक में तेज बारिश व 60 किमी से हवाएं चलने के साथ ही आरेंज अलर्ट जारी किया है। धाैलपुर, झालावाड़, बारां, भरतपुर, बूंदी, कराैली, काेटा में 40-50 किमी से हवाएं और तेज बारिश के कारण यलो अलर्ट जारी किया है।