प्रशासन की लापरवाही से जलमग्न हुईं फसलें

|

Published: 19 Aug 2019, 12:06 PM IST

mla chandrakanta meghwal : क्षेत्रीय विधायक चंद्रकांता मेघवाल ने आजंदा, घाट का बराना, देहीखेड़ा में जलमग्न फसलों का जायजा लेती हुईं नोताडा देवनारायण बाग के समीप के खेतों में पहुंची।

 

जयपुर। Crops submerged : बूंदी जिले के नोताडा क्षेत्र में लगातार हो रही बारिश से किसानों की हजारों बीघा फसलें खेतों में पानी निकासी नहीं होने से जलमग्न हो गईं। क्षेत्रीय विधायक चंद्रकांता मेघवाल mla chandrakanta meghwal ने आजंदा, घाट का बराना, देहीखेड़ा में जलमग्न फसलों का जायजा लेती हुईं नोताडा देवनारायण बाग के समीप के खेतों में पहुंची और किसानों की पीड़ा को सुना।

विधायक चंद्रकाता मेघवाल ने कहा कि बारिश में पहली बार यहां आकर देखा कि यहां हजारों बीघा खेतों में करीब पांच से छह फीट पानी भरा हुआ है। हिंगोनिया, कालीतलाई, झालीजी का बराना, घाट का बराना सहित कई गांवों में जाकर किसानों की पीड़ा सुनी। प्रशासन की बड़ी लापरवाही सामने आई है। यहां सड़क बनी हुई है तो बीच में पाइप भी डालने चाहिए थे जिससे पानी जमा नहीं होता। मालीकपुरा, नोताडा क्षेत्र के खेत नॉन कैचमेंट एरिया है।

उन्होंने कहा कि यहां पीडब्ल्यूडी ने पाइप नहीं रखे और जो रखे हैं वह भी ब्लॉक हो रहे हैं। कहीं न कहीं इनकी गलती की वजह से किसान मर रहा है। यहां तो किसानों की हर साल यही हालत रहती है। उन्होंने मौके पर ही पीड़ित किसानों को आश्वासन दिलाया कि उनकी समस्या को लेकर कमिश्नर से मिलेंगे। अगर सरकार के खिलाफ धरना प्रदर्शन करना पड़ा तो पीछे नहीं हटेंगे लेकिन किसानों के साथ मिलकर उनकी आवाज को उठाएंगे। किसानों से बड़ा कोई नहीं है। किसानों के बगैर देश प्रदेश आगे नहीं बढ़ सकता। आज किसान असुरक्षित है। मैंने तीन दिन में करीब पचास गांवों में जाकर हालात देखे हैं जहां पर कई किसानों के खेत जलमग्न है। पूरी स्थिति देखकर दिनभर में तीन चार बार फोन पर वार्ता करके कलक्टर को भी अवगत करवा रही हूं। सर्वे के लिए कहा है।