Indian railway एक अरब रुपए से यहां बनेंगे नए रेलवे ट्रेक, दूसरी रेल लाइल भी बिछेगी

|

Updated: 08 Feb 2018, 10:54 AM IST

रेलवे पिंक बुक में पमरे... 3200 करोड़ में रहेगा दोहरीकरण पर जोर, यात्री सुविधाएं कम'जोर' , जीएम ने कहा- नहीं आएगी कामों में रुकावट

Indian railway train enquiry, indian train, indian railway train schedule, indian railway train time, indian railway train, indian train status, indian train enquiry, indian railway train tracking, indian railway train search, indian train ticket booking, indian train information, indian train booking, indian train time table, indian railway train time table, indian train time, train route of indian railways, indian train schedule, indian train locator, indian train running status, indian train info, find train indian railway, indian train seat availability, indian train games, indian train live

जबलपुर. रेलवे बोर्ड द्वारा जारी की गई पिंक बुक में पश्चिम मध्य रेलवे को ३२०० करोड़ रुपए आवंटित किए गए हैं। यह पिछले वर्ष की राशि से ८ प्रतिशत अधिक है। गत वर्ष २९६२ करोड़ रुपए आवंटित हुए थे। इस राशि में नई लाइनों के कार्य, दोहरीकरण, यात्री सुविधाएं आदि के कार्य शामिल हैं। यह जानकारी बुधवार को पश्चिम मध्य रेलवे के महाप्रबंधक गिरीश पिल्लई ने दी। नई रेल लाइन बिछाने, दोहरीकरण एवं तीसरी लाइन के लिए सर्वाधिक २२१० करोड़ का प्रावधान किया गया है। शेष से सुरक्षा, संरक्षा और यात्री सुविधाएं विकसित की जाएंगी। यात्री सुविधाओं के लिए इस वर्ष केवल ७० करोड़ रुपए आवंटित किए गए हैं।

दोहरीकरण के लिए ११४० करोड़

नई लाइनों के कार्यो के लिए ५७५ करोड़, दोहरीकरण एवं तिहरीकरण की १४ परियोजनाओं के लिए ११४० करोड़आवंटित किए गए हैं। साथ ही फुटओवर ब्रिज तथा हाईलेवल प्लेटफार्म निर्माण एवं स्टेशन पर सॉफ्ट अपग्रेडेशन के लिए ४२५ करोड़ के नए कार्य स्वीकृत किए गए हैं।

नई ट्रेनों की घोषणा नहीं
हालांकि जोन के लिए कोई भी नई ट्रेन की घोषणा नहीं की गई है। पमरे महाप्रबंधक गिरीश पिल्लई ने कहा कि इस वर्ष पमरे के महत्वपूर्ण कार्यों हेतु आवंटित राशि में ८ फीसदी की बढ़ोत्तरी की गई है। निर्माण कार्यों में किसी भी तरह की रुकावट नहीं आएगी। प्रोजेक्ट के लिए भरपूर राशि उपलब्ध रहेगी। नई ट्रेनों का प्रावधान फिलहाल नहीं किया गया है, लेकिन जरूरतों के हिसाब से इस पर आगे विचार किया जा सकता है।

किस पर कितना बजट
यातायात सुविधा के लिए १४५ करोड़
कार्ड लाइन निर्माण के लिए १३५ करोड़
पांच विद्युतीकरण योजना के लिए ३९६ करोड़
कार्यों के लिए प्रस्तावित राशि ३१४ करोड़


रेलवे बोर्ड ने बुधवार को रेल बजट की पिंक बुक जारी कर दी। बजट में एक भी नई ट्रेन का प्रावधान नहीं किया गया है। न ही किसी ट्रेन के फेरे बढ़ाए गए हैं। मदनमहल में तैयार होने वाले कोचिंग कॉम्प्लेक्स और टर्मिनल बिल्डिंग के लिए मात्र एक करोड़ रुपए दिए गए हैं। एयरपोर्ट की तरह देश के २० स्टेशनों को विकसित करने के मामले में भी जबलपुर को दरकिनार कर दिया गया है। अम्बे्रला प्रोजेक्ट के माध्यम से यात्री सुविधाओं के विस्तार पर भारतीय रेलवे में ८९ हजार करोड़ का प्रावधान किया गया है। रेलवे द्वारा मदनमहल स्टेशन पर कोचिंग कॉम्प्लेक्स और टर्मिनल बिल्डिंग का निर्माण होना है। इसके लिए २० करोड़ रुपए राशि जारी होने की आशा थी, लेकिन दोनों योजनाओं के लिए मात्र १ करोड़ रुपए दिए गए हैं।

दोहरी-तिहरीकरण की १४ परियोजनाएं स्वीकृत
रेल मार्गों के दोहरीकरण और तिहरीकरण की १४ परियोजनाओं के लिए ११४० करोड़ रुपए का आवंटन हुआ है। कटनी-बीना के बीच ११५ करोड़ रुपए से तीसरी लाइन डाली जाएगी। सतना-रीवा रेल ट्रैक के दोहरीकरण के लिए ७५ करोड़ रुपए स्वीकृत किए गए हैं।

४ स्टेशनों पर ४० करोड़ से बनेंगे बैरक
जबलपुर मंडल के चार स्टेशनों नरसिंहपुर, बरगवां, मैहर और दमोह में आरपीएफ थाना और बैरक निर्माण के लिए ४० करोड़ रुपए स्वीकृत हुए हैं। इससे रेल सुरक्षा बल के आवास की समस्या भी खत्म होगी।

५७५ करोड़ नई लाइन के लिए
नई रेल लाइनों के लिए ५७५ करोड़ रुपए का आवंटन हुआ है। इसमें ललितपुर-सिंगरौली ५४१ किमी लम्बाई के लिए ३१५ करोड़, रामगंजमंडी-भोपाल २६२ किमी के लिए २६० करोड़ रुपए आवंटित हुए हैं।

७० करोड़ यात्री सुविधा के लिए

यात्री सुविधाओं के विस्तार के लिए ७० करोड़ रुपए जारी किए गए हैं। फुट ओवरब्रिज, हाईलेवल प्लेटफॉर्म और स्टेशन पर सॉफ्ट अपग्रेडेशन के लिए क्रमश: ३२५ और १०० करोड़ के नए कार्य स्वीकृत हुए हैं।

यात्री सुविधाओं के लिए प्रस्ताव
एस्केलेटर : २५८९ प्लेटफॉर्मों पर बनाए जाएंगे एस्केलेटर
लिफ्ट : ५०० स्टेशनों पर १००० लिफ्ट के लिए ४०४ करोड़ रुपए का आवंटन
वॉशेबल एप्रान : स्टेशनों पर २०० करोड़ रुपए से बनेंगे वॉशेबल एप्रान
क्विक वाटरिंग : २५ स्टेशनों पर क्विक वाटरिंग अरेंजमेंट के लिए ५० करोड़ रुपए
आरओबी, आरयूबी : रेल आेवरब्रिज तथा रेल अंडरब्रिज के लिए ३२० करोड़ रुपए का प्रावधान
इंटरलॉकिंग : १२ लेवल क्रॉसिंग की इंटरलॉकिंग, स्टैंडर्ड हाईटगेज के लिए ३२ करोड़ रुपए के नए कार्य स्वीकृत

५ विद्युतीकृत परियोजनाओं के लिए ३९६ करोड़
पश्चिम मध्य रेल में १६०० करोड़ की लागत से ५ विद्युतीकरण परियोजनाओं के लिए इस साल ३९६ करोड़ रुपए का आवंटन हुआ है। इसमें इटारसी-कटनी-मानिकपुर ६५३ किमी के लिए ६३ करोड़, कटनी-सिंगरौली २६० किमी के लिए १०० करोड़, रतलाम-नीमच-चंदेरिया-कोटा ३४८ किमी के लिए १२६ करोड़, विजयपुर-मक्सी के लिए ९१ करोड़ और गुना-ग्वालियर २२७ किमी के लिए १५ करोड़ रुपए का आवंटन हुआ है।