खराब खोवा से बनते हैं कटंगी के फेमस झुर्रे के रसगुल्ले, छापे में हुआ खुलासा

|

Published: 15 Jan 2021, 12:11 PM IST

खराब खोवा से बनते हैं कटंगी के फेमस झुर्रे के रसगुल्ले, छापे में हुआ खुलासा

 

famous jhurre ka rasgulla,jhurre ka rasgulla,famous rasgulla,Rasgulla,Who Invented Rasgulla,rasgulla high sales Nitish Kumar,Rasgulla sales rise high,rasgulla bhalla,rasgulla rabri,duplicate mawa,duplicate mava,Mawa Kachori Recipe,Mawa seized,Mawa,Mawa Malpua recepie in Hindi,Seized fake Mawa,mawa recepie,

जबलपुर। झुर्रे रसगुल्ला नाम से प्रसिद्ध दुकान में अमानक रसगुल्ला बेचा जाता था। इसके साथ ही कटंगी की एक डेयरी का दूध भी अमानक मिला। इसका खुलासा राज्य खाद्य प्रयोगशाला भोपाल से मिली रिपोर्ट के बाद हुआ। रिपोर्ट मिलने के बाद गुरुवार को पुलिस ने रसगुल्ला दुकान संचालक प्रदीप जैन तथा डेयरी संचालक मुन्नालाल यादव और महावीर मिल्क प्रोडक्ट के खिलाफ प्रकरण दर्ज किया।

जांच में अमानक निकले खाद्य पदार्थ
झुर्रे रसगुल्ला व महावीर मिल्क के संचालक पर एफआइआर

अमानक मावा: पुलिस ने बताया कि 12 नवम्बर 2020 को खाद्य सुरक्षा प्रशासन की टीम ने कटंगी में झुर्रे के रसगुल्ला दुकान पर छापा मारा था। इस दौरान वहां से मावा जब्त किया गया था। यह मावा राज्य खाद्य प्रयोगशाला भोपाल भेजा गया था। हाल ही में उसकी रिपोर्ट मिली। जिसमें मावा अवमानक निकला। रिपोर्ट के आधार पर खाद्य सुरक्षा प्रशासन की टीम की ओर से माधुरी मिश्रा ने मामले की शिकायत कटंगी पुलिस से की। रिपोर्ट के आधार पर पुलिस ने टीम ने प्रदीप जैन पर प्रकरण दर्ज किया। पुलिस ने खाद्य सुरक्षा प्रशासन विनोद कुमार धुर्वे की रिपोर्ट के आधार पर कटंगी के ही सब्जी बाजार में शुभम दूध डेयरी संचालित करने वाले मुन्नालाल यादव व रिछाई इंड्रस्टियल एरिया महावीर मिल्क प्रोडक्ट के संचालक के खिलाफ प्रकरण दर्ज किया। डेयरी से खाद्य विभाग की टीम ने 22 नवम्बर 2020 को दूध के नमूने लिए गए थे। यह महावीर मिल्क प्रोडक्ट से आता था। राज्य खाद्य प्रयोगशाला भोपाल से मिली जांच में यह दूध अमानक निकला था।

सुरेश बेकरी पर 50 हजार का जुर्माना
नगर निगम के खाद्य विभाग की टीम ने कांचघर स्थित सुरेश बेकरी में छापा मारा। के क, बिस्किट, पिज्जा, बर्गर से लेकर अन्य खाद्य सामग्री बनाने में केमिकल का उपयोग किया जा रहा था। खुले में खाद्य सामग्री रखी थी। हर तरफ गंदगी फैली थी। कोरोना संकट के बावजूद बेकरी के कर्मचारी लापरवाही बरत रहे थे। ज्यादातर ने मास्क नहीं लगाया था। संचालक पर 50 हजार रुपए का जुर्माना लगाया गया।