फेसबुक पर ऐसे दिया सस्ते में मिर्ची-प्याज का झांसा!

|

Published: 16 Oct 2020, 10:26 PM IST

झांसा देकर शहर के कारोबारी को लगाई 50 हजार की चपत, स्टेट सायबर सेल में शिकायत दर्ज

bihar board cheating scam,anti-cheating system,cheating,Bihar cheating scam,Bihar cheating,raj kundra cheating case,Big cheating of cricket history,murdered big businessman,cyber cell news,Cyber Cell,Cyber cell in mumbai,check arrived the owner of the PA- PATM in High Court against cyber cell,police cyber cell,began investigating the cyber cell,patrika seoni news mp news robbery cyber cell,cyber cell agra,police station cyber cell,Cyber Cell Faizabad,mumbai Cyber cell,cyber cell indore,Helping the cyber cell to catch the policemen,cyber cell latest news in hindi,cyber cell constituted in kuchaman city,cyber cell help news,jabalpur cyber cell,

जबलपुर. जालसाज ने फेसुबक पर स्वयं को मिर्ची और प्याज का बड़ा व्यवसायी बताकर शहर के कई व्यापारियों से दोस्ती की। दमोहनाका निवासी एक व्यापारी ने उसे 50 हजार रुपए की मिर्ची भेजने का ऑर्डर दिया। उसकी बातों में आकर उसके बताए बैंक खाते में पैसे भी जमा कर दिए। जालसाज ने न तो मिर्ची भेजी न ही पैसे लौटाए। पीडि़त व्यापारी ने स्टेट सायबर सेल में मामले की शिकायत दर्ज कराई है।
ये है मामला
जानकारी के अनुसार दमोहनाका निवासी स्वप्निल साहू किराना व्यवसायी हैं। कुछ महीने पहले फेसबुक पर अंकित जैन नाम के प्रोफाइल वाले व्यक्ति से उनकी दोस्ती हुई। उसने खुद को राजस्थान का बड़ा किराना व्यवसायी बताते हुए सस्ते में मिर्ची बेचने का एड अपने फेसबुक पर पोस्ट किया था। स्वप्निल साहू ने उससे बात की। अंकित जैन ने उसे लोडिंग वाहन में मिर्ची लोड होने की फोटो भेजी और चालक से बात भी कराया। माल सप्लाई करने की बात कहकर बताए गए बैंक खाते में। 50 हजार रुपए जमा करने के लिए कहा। इस पर स्वप्निल ने 50 हजार रुपए भेज दिए। एक सप्ताह बाद भी मिर्ची नहीं पहुंची तो अंकित को फोन लगाया, जो बंद था। इसके बाद स्टेट सायबर सेल में शिकायत की। जांच में पता चला कि स्वप्निल ने जिस दुकानदार के खाते में पैसे जमा कराए थे, वह राजस्थान का बड़ा व्यवसायी है। उसके यहां जालसाज खुद मिर्ची का ग्राहक बनकर गया था। मिर्ची खरीदने के बाद उसने स्वप्निल साहू से पैसे उसके खाते में जमा करा दिए। स्टेट सायबर सेल मामले की तकनीकी जांच कर रही है।