कारोबारी पिता-पुत्र ने दिनदहाड़े चाकू से की कारपेंटर की हत्या

|

Updated: 24 Mar 2021, 08:30 PM IST

मदनमहल थाना क्षेत्र के गुलौआ चौक पर वारदात
सामान खरीदने पहुंचा था विष्णु, बिल को लेकर हुआ विवाद
रानीताल में गुस्साए परिजन व अन्य ने शव रखकर किया प्रदर्शन

Carpenter murdered by businessman father-son in broad daylight

जबलपुर . मदनमहल थाना क्षेत्र के गुलौआ चौक पर बुधवार दोपहर अतुल प्लाईवुड एंड हार्डवेयर के संचालक उपेन्द्र चतुर्वेदी और उसके बेटे अनुराग ने माढ़ोताल निवासी कारपेंटर विष्णु पर चाकू से ताबड़तोड़ वार किए। घायल विष्णु को अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। विष्णु उनकी दुकान पर सामान लेने पहुंचा था।। दिन-दहाड़े हुई वारदात से इलाके में सनसनी फैल गई। पुलिस ने आरोपी पिता-पुत्र पर हत्या का प्रकरण दर्ज कर दोनों को गिरफ्तार कर लिया है।
अक्सर सामान लेने जाता था विष्णु
मदनमहल पुलिस ने बताया कि गढ़ा नारायण नगर निवासी उपेन्द्र चतुर्वेदी (58) की गुलौआ चौक पर अतुल प्लाईवुड एंड हार्डवेयर के नाम से दुकान है। माढ़ोताल निवासी कारपेंटर विष्णु विश्वकर्मा उनकी दुकान से अक्सर सामान खरीदता था। बुधवार को उपेन्द्र और उसका बेटा अनुराग चतुर्वेदी (27) दुकान में बैठे थे। दोपहर लगभग 12 बजे विष्णु उनकी दुकान पहुंचा।
बिल को लेकर हुई थी बहस
सामान देने के बाद उपेन्द्र और अनुराग ने विष्णु को बिल दिया। विष्णु ने बिल देखा, तो उसे वह अधिक लगा। इस पर विष्णु ने ताना कसते हुए अपशब्द कहे। ये बात पिता-पुत्र को रास नहीं आई। दोनों ने उससे अभद्रता की। इसी बीच अनुराग ने विष्णु पर चाकू से एक के बाद एक कई वार किए।
खून से लथपथ विष्णु दुकान के बाहर ही गिर गया। सूचना मिलते ही कोतवाली सीएसपी दीपक मिश्रा और मदन महल थाना प्रभारी नीरज वर्मा बल समेत मौके पर पहुंचे। तब तक एंबुलेंस भी पहुंच गई। गंभीर अवस्था में विष्णु को मेडिकल अस्पताल ले जाया गया, जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया। पुलिस ने शव का पीएम कराने के बाद उसे परिजनों को सौंपा।
दोनों आरोपी गिरफ्तार
वारदात के कुछ ही देर बाद पुलिस ने आरोपी अनुराग और उसके पिता उपेन्द्र को गिरफ्तार कर लिया। आरोपी ने वारदात में प्रयुक्त चाकू सेप्टिक टेंक में फेंक दिया था, पुलिस ने आरोपी की निशानदेही पर उसे भी बरामद कर लिया। आरोपियों को गुरुवार को न्यायालय में पेश किया जाएगा।
शव रखकर चक्काजाम प्रदर्शन
पीएम के बाद विष्णु का शव घर पहुंचा। जहां से अंतिम संस्कार के लिए विष्णु को रानीताल शमशान घाट ले जाया गया, लेकिन शवयात्रा में शामिल लोगों ने शमशान के समाने मुख्य मार्ग पर शवयात्रा रोकी और शव को सडक़ पर रखकर प्रदर्शन शुरू कर दिया। सूचना मिलते ही पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंचे और प्रदर्शनकारियों को समझाइश देकर अंतिम यात्रा को रवाना किया।
15 लाख दिया जाए मुआवजा
विश्वकर्मा समाज संगठन मप्र और कारपेंटर इंटीरियल कॉन्ट्रेक्टर एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष हरिशंकर विश्वकर्मा, दशरथ विश्वकर्मा समेत अन्य ने विष्णु की हत्या की निंदा की। संगठन ने मृतक के परिजनों को 15 लाख रुपए मुआवजा दिए जाने की मांग की।