कोरोना वैक्सीनेशन का बड़ा खुलासा: 6 हजार 207 स्वास्थ्य कर्मियों ने नहीं लगवाया टीका

|

Published: 05 Feb 2021, 04:26 PM IST

कोरोना वैक्सीनेशन का बड़ा खुलासा: 6 हजार 207 स्वास्थ्य कर्मियों ने नहीं लगवाया टीका

corona vaccination,Corona Vaccination Program Fund,corona vaccination fund,corona vaccination,Big disclosure of corona ,disclosure of corona,mp corona update,corona update in india,

जबलपुर। स्वास्थ्य विभाग के कई मौके देने के बाद भी जिले में 6 हजार 207 स्वास्थ्य कर्मियों ने कोरोना टीका नहीं लगवाया। पहले चरण में छूट गए कर्मियों को आखिरी अवसर देते हुए गुरुवार को लगातार दूसरे दिन मॉपअप राउंड चलाया गया। इसमें 2 हजार 256 स्वास्थ्य कर्मियों को टीका लगाने का लक्ष्य रखा गया था। लेकिन महज 501 कर्मचारी ही टीका लगवाने के लिए पहुंचे। यह लक्ष्य महज 22 प्रतिशत था। यह अभी तक के कोविड टीकाकरण की सबसे कम दर है। इसके साथ ही हेल्थ सर्विस प्रोवाइडर्स के लिए कोविड वैक्सीनेशन का पहला चरण पूरा हो गया है। पहले चरण में कुल 74 प्रतिशत पंजीकृत हेल्थ सर्विस प्रोवाइडर्स ने कोरोना टीका लगवाया है।

दूसरे चरण के लिए रविवार तक पंजीयन
कोविड-19 वैक्सीनेशन का पहला चरण खत्म होने के साथ ही दूसरे चरण की तैयारियां शुरू कर दी गई हैं। दूसरे चरण में फं्रट लाइन वर्कर में पुलिस, राजस्व, पंचायत और नगर निगम कर्मियों को टीका लगाया जाना है। पुलिस, राजस्व और नगर निगम के कर्मचारियों को टीका लगाने के लिए पंजीयन हो चुका है। अभी पंचायती राज विभाग के कर्मचारियों के पंजीयन की प्रक्रिया चल रही है। इनके 7 फरवरी तक ऑनलाइन पंजीयन होंगे। उसके अगले दिन से फ्रंट लाइन वर्कर को कोरोना टीका लगाए जाने का प्रस्ताव है।

 

IMAGE CREDIT: patrika

जिले में स्थिति
2256 हितग्राही को गुरुवार को टीका लगाया जाना था।
30 सेशन तय किए गए थे।
501 स्वास्थ्य कर्मियों ने गुरुवार को टीका लगवाया।
17 हजार 282 कुल कर्मियों को अभी तक टीका लगा।
23 हजार 276 कुल कर्मियों को टीका लगाया जाना था।
368 कुल सेशन टीकाकरण के पहले चरण में 11 दिन तक हुए।

सरकारी अस्पताल में बनेंगे टीकाकरण केन्द्र
पहले चरण में सरकारी और निजी अस्पतालों के हेल्थ सर्विस प्रोवाइडर्स को वैक्सीन की पहली डोज दी गई है। संसाधन की दृष्टि से निजी अस्पतालों में भी कोविड वैक्सीनेशन सेंटर बनाए थे। लेकिन फ्रंट लाइन वर्कर को टीका सिर्फ सरकारी अस्पतालों में ही लगाया जाएगा। दूसरे चरण में सरकारी स्वास्थ्य केन्द्र ही वैक्सीनेशन सेंटर बनेंगे। इसमें पुलिस विभाग का अस्पताल शामिल है।

कोविड-19 वैक्सीनेशन का पहला चरण पूरा हो गया है। अगले चरण की तैयारी शुरू कर दी गई है। इसमें फं्रट लाइन वर्कर को वैक्सीन लगाई जाएगी। वैक्सीनेशन सरकारी अस्पतालों में ही होगा।
- डॉ. शत्रुघन दाहिया, टीकाकरण अधिकारी