जबलपुर में 13 हजार के करीब पहुंचा कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा, मरने वालों की संख्या 220 हुई

|

Published: 25 Nov 2020, 11:03 AM IST

जबलपुर में 13 हजार के करीब पहुंचा कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा, मरने वालों की संख्या 220 हुई

corona positive cases in jabalpur,corona positive cases in surat,CRPF jawan corona positive,corona positive in mp,horrific situation in mp,horrific situation of a man dead body,corona in jabalpur,jabalpur corona update,mp corona update,today corona update in chhattisgarh,gariaband corona update,

जबलपुर। कोरोना से स्वस्थ होने पर मंगलवार 24 नवम्बर को 60 व्यक्तियों को डिस्चार्ज किया गया है । वहीं बीते चौबीस घंटे के दौरान मिली 1 हजार 561 सेम्पल की परीक्षण रिपोट्र्स में कोरोना के 66 नये मरीज सामने आये हैं । आज डिस्चार्ज हुये 60 व्यक्तियों को मिलाकर जबलपुर में कोरोना के संक्रमण से मुक्त होने वाले मरीजों की संख्या 12 हजार 992 हो गई है और रिकवरी रेट 93.31 प्रतिशत हो गया है । कल सोमवार की शाम 6 बजे से आज मंगलवार की शाम 6 बजे तक बीते चौबीस घंटे के दौरान आये 66 कोरोना संक्रमितों को मिलाकर जबलपुर में कोरोना पॉजिटिव व्यक्तियों की संख्या 13 हजार 922 हो गई है। बीते चौबीस घंटे के दौरान एक व्यक्ति की कोरोना से मृत्यु की प्राप्त रिपोर्ट को मिलाकर जबलपुर में कोरोना से मृत होने वाले मरीजों की संख्या 220 हो गई है। जबलपुर में कोरोना के एक्टिव केस 710 हो गये हैं। आज कोरोना टेस्ट के लिए 1 हजार 651 व्यक्तियों के सेम्पल लिये गये हैं।

 

कलेक्टर ने कहा सावधानी बरतें
कलेक्टर कर्मवीर शर्मा ने मंगलवार 24 नवम्बर की ब्रीफिंग में कोरोना संक्रमण से बचने लोगों को अतिरिक्त सावधानी बरतने का आग्रह किया है । शर्मा ने ठण्ड के दिनों में बुजुर्गों की सुरक्षा पर विशेष ध्यान देने का अनुरोध भी लोगों से किया। उन्होंने बताया कि जिला प्रशासन द्वारा कोरोना से बुजुर्गों की सुरक्षा के लिये वृद्धजन सुरक्षा अभियान चलाया जा रहा है। इस अभियान के तहत बुजुर्गों और कोमोरबिडिटी से पीडि़त 50 वर्ष से अधिक आयु के व्यक्तियों को चिन्हित किया जा रहा है, उनसे सम्पर्क किया जा रहा है तथा उनके स्वास्थ्य की मॉनिटरिंग की जा रही है ।

कलेक्टर ने नागरिकों से अपील करते हुये कहा वे अपने घर के बुज़ुर्ग सदस्यों की ठण्ड को देखते हुये विशेष देखभाल करें और उन्हें घर से बाहर बिल्कुल न निकलने दें। यदि उन्हें कोई बीमारी है तो नियमित रूप से दवायें देते रहे और समय-समय पर उनका चेक-अप भी कराते रहें । उन्होंने लक्षण दिखाई देने पर निकट के फीवर क्लीनिक से सेम्पल कराने का भी अनुरोध किया , ताकि यदि कोरोना हो तो जल्दी से उसकी पहचान हो सके और समय पर उपचार शुरू किया जा सके । श्री शर्मा ने कहा कि कोरोना की जितनी जल्दी पहचान होगी, उतनी जल्दी उसका उपचार शुरू हो सकेगा और घातक स्थिति से बचा जा सकेगा ।