RBI के नियम के चलते Uday Kotak को छोड़ना होगा Kotak Mahindra , इन बैंक के CEOs को छोड़ना होगा पद

|

Updated: 14 Jun 2020, 07:45 AM IST

  • उदय कोटक नहीं रहेंगे कोटक महिन्द्रा के सीईओ
  • आरबीआई लाने वाला है नया नियम
  • कई बैंकों प होगा असर

नई दिल्ली: उदय कोटक ( UDAY KOTAK ) ने जिस Kotak Mahindra बैंक की स्थापना की थी, उन्हें उस बैंक से अब विदा लेने पड़ेगा। दरअसल भारतीय बैंकिंग इंडस्ट्री ( indian BANKING INDUSTRY ) के सबसे महंगे CEO ( फिलहाल 1 रूपए सैलेरी पर काम कर रहे हैं।) उदय कोटक को RBI के एक नियम की वजह से बैंक के CEO पद को छोड़ना पड़ेगा।

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने भारतीय बैंकों के सीईओ ( BANK CEO ) के कार्यकाल को सीमित करने के लिए प्रस्ताव पेश किया गया है। इस नियम के मुताबिक RESERVE BANK OF INDIA ने बैंकों के सीईओ के कार्यकाल को अब 10 साल तक ही सीमित करने का प्रस्ताव पेश किया है, ये नियम बैंकों के WHOLE TIME DIRECTORS पर भी लागू होगा। गुरूवार को कॉर्पोरेट गवर्नेंस पर जारी हुए इस डिस्कसन पेपर का असर कई और बैंको पर भी पड़ेगा लेकिन इसका सबसे ज्यादा असर KOTAK MAHINDRA BANK पर पड़ेगा। इस नियम के हिसाब से बैंक की ओनरशिप और मैनेजमेंट को अलग-अलग कर दिया गया है। हालांकि अभी ये नियम अमल में नहीं आया है।

किसानों के खाते में पहुंचे 9000 करोड़ रूपए, जानें Pradhan Mantri Fasal Bima Yojana के लिए आपको क्या करना होगा

हाल के दिनों में बैंको में हिस्सेदारी को लेकर भी उदय और आरबीआई एक-दूसरे को आमने सामने थे, लेकिन अब बाजी पलटती नजर आती है। RBI ने अपने प्रस्ताव में कहा है कि जो सीईओ बैंक के फाउंडर नहीं है, वो 15 साल तक बैंक में सीईओ पद पर रह सकते हैं।

इन बैंकों के सीईओ को भी छोड़ना होगा पद- उदय कोटक के अलावा बंधन बैंक लिमिटेड के सी.एस. घोष, आरबीएल बैंक लिमिटेड विश्ववीर आहुजा, फेडरल बैंक लिमिटेड और एयू स्मॉल फाइनेंस बैंक लिमिटेड के सीईओ भी इस नियम की वजह से अपने पद से मुक्त किये जा सकते हैं।

2003 में स्थापित हुआ कोटक बैंक- कोटक महिंद्रा बैंक की स्थापना उदय कोटक ने 2003 में की थी। इसका मतलब है कि उदय कोटक को 2022 या 2023 में पद छोड़ना होगा।आपको बता दें कि उदय कोटक ने हिस्सेदारी की वजह से RBI से इसी साल लंबी अदालती लड़ी है।