मारुति सुजुकी की अक्टूबर महीने में प्रत्येक घंटे बेची 250 से ज्यादा गाडिय़ां

|

Updated: 01 Nov 2020, 03:49 PM IST

  • मारुति सुजुकी की अक्टूबर की बिक्री 19 फीसदी बढ़कर 1.8 लाख यूनिट हुई
  • 2019 में मारुति सुजुकी की अक्टूबर की बिक्री थी 1,53,435 यूनिट

नई दिल्ली। ऑटो सेक्टर के आंकड़े लॉकडाउन के बाद अब सुधरने लगे हैं। ऑटो कंपनियों की गाडिय़ों की बिक्री में बीते कुछ महीनों में अच्छा इजाफा देखने को मिल रहा है। अगर बात मारुति सुजुकी इंडिया करें तो अक्टूबर के महीने में हरेक घंटे में 250 से ज्यादा गाडिय़ों की बिेक्री की है। जबकि पिछले साल इसी महीने में यह आंकड़ा कम था। जानकारों की मानें तो दिसंबर के महीने आने वाला नवंबर का आंकड़ा इससे और बेहतर होने की उम्मीद है। इसका कारण है कि फेस्टिव मंथ होने के कारण और ऑटो कंपनियों द्वारा दिए जाने वाले ऑफर्स की वजह हो सकती है। आइए आपको भी बताते हैं कि आने वाले दिनों में मारुति सुजुकी की ओर से किस तरह के आंकड़े सामने आए हैं।

मारुति सुजुकी की ओर से जारी किए आंकड़ें
मारुति सुजुकी इंडिया ने अक्टूबर महीने में अपनी कुल बिक्री में 18.9 फीसदी की वृद्धि दर्ज की है। कंपनी ने पिछले महीने अक्टूबर में 1,82,448 यूनिट बेची, जबकि यही आंकड़े पिछले साल अक्टूबर में 1,53,435 थे। अन्य मूल उपकरण निमार्ताओं (ओईएम) की बिक्री सहित कंपनी की घरेलू बिक्री 1,72,862 इकाई थी, जो साल-दर-साल आधार पर 19.8 फीसदी अधिक रही। मारुति सुजुकी ने अक्टूबर में देश में 1,63,656 यात्री वाहन बेचे, जो 17.6 फीसदी अधिक था।

यह भी पढ़ेंः- यूएस प्रेसिडेंशियल इलेक्शन से लेकर आर्थिक आंकड़े तय करेंगे शेयर बाजार का रुख

इस सेगमेंट की कारों की बिक्री भी हुई
हालांकि मिनी सेगमेंट की कारें, जिनमें ऑल्टो और एस-प्रेसो शामिल हैं, उनकी बिक्री में 28,462 यूनिट्स की 0.3 फीसदी की गिरावट देखी गई, कॉम्पैक्ट सेगमेंट में बिक्री 26.6 फीसदी बढ़कर 95,067 यूनिट्स हो गई। मारुति के कॉम्पैक्ट सेगमेंट में मॉडल में वैगनआर, स्विफ्ट, सेलेरियो, इग्निस, बलेनो, डिजायर और टूर एस शामिल हैं। वहीं इसके हल्के वाणिज्यिक वाहन सुपर कैरी की बिक्री भी पिछले महीने 30.5 फीसदी बढ़कर 3,169 इकाई हो गई। अक्टूबर में कंपनी के निर्यात में भी सुधार हुआ। इसने विदेशों में 9,586 वाहनों की बिक्री की, जो साल-दर-साल आधार पर 4.7 फीसदी अधिक है।

यह भी पढ़ेंः- इंडियन इकोनॉमी में सुधार के संकेत, फरवरी के बाद जीएसटी कलेक्शन एक लाख करोड़ रुपए के पार