उड़ानों की संख्या कम करने के विवाद के बीच लुफ्थांसा ने जर्मनी और भारत के बीच सभी उड़ानें की रद्द

|

Updated: 30 Sep 2020, 08:27 AM IST

  • 30 सितंबर से 20 अक्टूबर तक लुफ्थांसा ने दिल्ली, मुम्बई और बेंगलुरू को जर्मनी से जोडऩे का बनाया था प्लान
  • लुफ्थांसा ने सितम्बर के अंत से स्पेशल फ्लाइट्स के संचालन की अनुमति थी मांगी, सरकार की नामंजूर

नई दिल्ली। दुनिया की सबसे बड़ी एयरलाइन में से एक लुफ्थांसा और भारत सरकार के बीच शुरू हुए विवाद के बाद मंगलवार को एयरलाइन ने 30 सितम्बर से जर्मनी और भारत के बीच की सभी तय उड़ानों को रद्द करने का फैसला किया है। एअरलाइन के अनुसार यह कदम भारतीय अधिकारियों द्वारा कम्पनी के अक्टूबर के लिए तय प्लान्ड फ्लाइट शेड्यूल को निरस्त करने के बाद फैसला लिया है।

यह भी पढ़ेंः- आपका बच्चा भी बच्चा भी बन सकता है भविष्य का Warren Buffett, स्मार्ट इंवेस्टर बनाने के लिए ऐसे करें ट्रेंड

यह भी एयरलाइन का प्लान
लुफ्थांसा ने सितंबर के अंत से स्पेशल फ्लाइट्स के संचालन की अनुमति मांगी थी। इसमें भारत की हामी की जरूरत थी, लेकिन अब तक इस मांग को नहीं माना गया है और इसी कारण लुफ्थांसा यह फैसला लेने पर मजबूर हुई है। लुफ्थांसा के बसान के अनुसार दिल्ली, मुम्बई और बेंगलुरू को जर्मनी से जोडऩे के लिए उसने अक्टूबर में उड़ानें संचालित करने का प्लान बनाया था।

यह भी पढ़ेंः- जानिए कैसे पता लगाते हैं कितना भरना होता है Income Tax, कुछ इस तरह से किया जाता है कैल्कुलेशन

सउदी अरब ने लगाया था बैन
वहीं दूसरी ओर भार में भारत में बढ़ते कोरोना वायरस के मामलों को देखते हुए सउदी सरकार ने भारत से आने जाने वाली उड़ानों पर बैन लगाया दिया था। 22 सितंबर को सउदी अरब के जनरल अथॉरिटी ऑफ सिविल एविएशन ने सर्कुलर में कहा था कि भारत, ब्राज़ील और अर्जेंटीना, साथ ही ऐसा कोई भी व्यक्ति जो यहां आने के पिछले 14 दिनों में इनमें से किसी देश में गया हो देशों से आने-जाने वाली उड़ानों को प्रतिबंधित किया जा रहा है।