एअर इंडिया विनिवेश के लिए सरकार नए सिरे से जारी करेगी पीआईएम

|

Updated: 11 Oct 2020, 01:58 PM IST

  • मीडिया रिपोर्ट के अनुसार अगले दो सप्ताह जारी हो सकता है संशोधित पीआईएम
  • कई बार बढ़ाए जाने के बाद अभिरुचि पत्र दाखिल करने की 30 अक्टूबर है अंतिम तारीख

नई दिल्ली। हजारों करोड़ रुपए कर्ज के बोझ तले दबी सरकारी विमान सेवा कंपनी एअर इंडिया के विनिवेश की शर्तों में बड़े बदलावों के साथ बोली लगाने के लिए प्राथमिक सूचना दस्तावेज (पीआईएम) नए सिरे से जारी किया जाएगा। कोविड-19 महामारी से विमानन क्षेत्र पर काफी प्रतिकूल असर हुआ है। अंतर्राष्ट्रीय उड़ानें लगभग पूरी तरह बंद हैं जबकि देश में घरेलू उड़ानें धीरे-धीरे पटरी पर आती दिख रही हैं। महामारी से पहले एयर इंडिया की दो-तिहाई कमाई अंतर्राष्ट्रीय ऑपरेशन से ही होती थी। इसलिए राजस्व अभी आधे से भी कम रह गया है। निकट भविष्य में अंतर्राष्ट्रीय विमानन क्षेत्र के तेजी से प्रगति पर लौटने की उम्मीद भी नहीं है।

यह भी पढ़ेंः- डॉलर में गिरावट और अमरीकी राहत पैकेज की उम्मीद की वजह से सोना और चांदी हुए महंगे, जानिए कितने बढ़े दाम

दो हफ्तों में जारी होगा नया पीआईएम
मीडिया रिपोर्ट के अनुसार इस साल जनवरी में जारी पीआईएम में विनिवेश के लिए जो शर्तें रखी गई थी निवेशक उनमें बड़े बदलावों की मांग कर रहे हैं। ऐसे में दो सप्ताह में संशोधित पीआईएम जारी किया जाएगा। कई बार बढ़ाये जाने के बाद फिलहाल अभिरुचि पत्र दाखिल करने की अंतिम तारीख 30 अक्टूबर है। उम्मीद है कि उससे पहले ही संशोधित पीआईएम जारी कर दिया जाएगा।

यह भी पढ़ेंः- टीसीएस के मार्केट कैप में बीते एक सप्ताह में हुआ एक लाख करोड़ रुपए से ज्यादा इजाफा

इतनी बेची जाएगी हिस्सेदारी
नए सिरे से पीआईएम जारी करने का मतलब है कि अभिरुचि पत्र दाखिल करने के लिए निवेशकों को और समय दिया जाएगा। इससे एअर इंडिया के विनिवेश में और देरी होने की संभावना है। सरकार ने इस साल 27 जनवरी को एअर इंडिया के विनिवेश के लिए पीआईएम जारी किया था। इसके तहत एअर इंडिया और उसकी पूर्ण स्वामित्व वाली इकाई एयर इंडिया एक्सप्रेस की 100 फीसदी हिस्सेदारी बचने का प्रस्ताव है। साथ ही एअर इंडिया एसएटीएस एयरपोर्ट सर्विसेज में एअर इंडिया की 50 फीसदी हिस्सेदारी भी बेचने का प्रस्ताव है।