कांग्रेसियों पर लाठीचार्ज : शहर अध्यक्ष बोले- शांतिपूर्वक मार्च निकाल रहे थे, पुलिस का डंडा लगने से टूट गई कलाई

|

Published: 23 Jan 2021, 05:53 PM IST

शनिवार की सुबह इंदौर से शहर अध्यक्ष विनय बाकलीवाल के नेतृत्व में बड़ी संख्या में कांग्रेसी भोपाल पहुंचे थे। लेकिन, प्रदर्शन रोकने के लिये पुलिस द्वारा लाठीचार्ज किया गया, जिसके शिकार बाकलीवाल भी हुए।

इंदौर/ केन्द्र सरकार द्वारा लागू किये गए कृषि कानूनो के विरोध में आज मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में पूर्व मुख्यमंत्री और काग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के नेतृत्व में प्रेशभर के काग्रेस नेता-कार्यकर्ताओं के साथ प्रदेश के किसानों ने रैली निकालते हुए राजभवन का घेराव करने की योजना बनाई थी। हालांकि, राजभव पहुंचने से पहले ही रोशनपुरा पर पुलिस ने कांग्रेसियों और किसानों को रोक लिया। भीड़ को तितर बितर करने के लिये पुलिस द्वारा वॉटर केनन और आंसू गैस के गोले छोड़े गए। इस दौरान मची भगदड़ को नियंत्रित करने के लिये पुलिस द्वारा हल्के बल का प्रयोग करते हुए लाठीचार्ज भी किया गया, जिसमें कई नेता-कार्यकर्ताओं को चोट भी आई। पुलिस के लाठी चार्ज में कांग्रेस नेता और इंदौर शहर अध्यक्ष विनय बाकलीवाल की कलाई पर मोच भी आ गई। साथ ही, भगदड़ में कई मीडियाकर्मियों के कैमरे भी क्षतिग्रस्त हो गए।

 

पढ़ें ये खास खबर- किसानों के लिये कांग्रेस का प्रदर्शन : राजभवन मार्ग पर पुलिस ने छोड़े आंसू गैस के गोले, पूर्व CM समेत 20 नेता गिरफ्तार


अचानक बरसने लगे पुलिस के डंडे- विनय बाकलीवाल

विनय बाकलीवाल ने मीडिया बातचीत में बताया कि, हम सुबह शहर के जवाहर चौक पर इकट्ठा हुए थे। यहां से शांतिपूर्वक मार्च निकालते हुए रैली राजभवन की ओर बढ़ी थी। लेकिन, रोशन पुरा इलाके में रैली को रोकने के लिये बड़ी संख्या में पुलिसबल तैनात था। जवानों द्वारा रैली को रोशनपुरा से आगे जाने से रोका गया।हम कुछ समझ पाते इससे पहले ही पानी की तेज बौछारें हम पर आन पड़ीं। इतना ही नहीं एकाएक आंसू गैस के गोले भी छोड़े दिये गए, जिसकी जलन के चलते भगदड़ की स्थित बन गई,जिसपर काबू पाने के लिये पुलिस द्वारा डंडे बरसाना शुरू कर दिये गए।

 

पढ़ें ये खास खबर- रैली के बाद कमलनाथ बोले- आंसू गैस व वाटर केनन से हमला निंदनीय, शिवराज सरकार के ईशारे पर किया गया बर्बर लाठीचार्ज


सिर्फ मैं ही नहीं, बल्कि बहुत से लोग हुए घायल- विनय बाकलीवाल

उन्होंने बताया कि, मुझ पर भी कई डंडे बरसाए गए, जिनसे बचने के लिये मैं पीछे हटा, तब तीन लाठी मैरी पीठ पर और एक लाठी कलाई पर पड़ चुकी थी। यहां से बचकर किसी तरह निकला, तो एक व्यक्ति ने मुझे अपनी दुकान में बैठा लिया। पीठ का दर्द तो अपनी जगह था ही, लेकिन हाथ में लगी लाठी की चोट बरदाश्त नहीं हो रही थी। बाद में चिकित्सकीय उपचार के दौरान पता लगा कि, हाथ में फ्रेक्चर आया है, जबकि पीठ पर भी कई चोटें आई हैं। उन्होंने ये भी कहा कि, प्रदर्शन के दौरान सिर्फ मैं ही पुलिस की लाठियों का शिकार नहीं हुआ, बल्कि कई किसान-कार्यकर्ता, यहां तक की महिलाओं को भी चोटें आईं हैं।

 

पढ़ें ये खास खबर- OLX पर फ्रॉड : विज्ञापन देखकर 65 हजार में हुई बाइक की डील, रुपये मिलते ही आरोपी बाइक लेकर फरार


इंदौर से सुबह रवाना हुए थे कार्यकर्ता

आपको बता दें कि, किसान आंदाेलन का समर्थन करते हुए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ के नेतृत्व में शनिवार काे भाेपाल में कांग्रेसियों द्वारा राजभवन का घेराव करना तय किया गया था। इस दौरान प्रदेश के अन्य जिलों की ही तरह प्रदर्शन में शामिल होने के लिये शनिवार की सुबह इंदौर से भी शहर अध्यक्ष विनय बाकलीवाल के नेतृत्व में बड़ी संख्या में कांग्रेसी भोपाल पहुंचे थे। लेकिन, प्रदर्शन रोकने के लिये पुलिस द्वारा लाठीचार्ज किया गया, जिसके शिकार बाकलीवाल भी हुए। उनका कहना है कि उन्हें हाथ सहित पीठ में काफी दर्द है। पुलिस ने बेवजह हम पर लाठी भांजी है, जबकि प्रदर्शन शांतिपूर्वक चल रहा था।

 

सांसद शंकर लालवानी की फिसली जुबान - video