Latest News in Hindi

दोनों तेलुगु राज्यों में जगह-जगह मनाया गया योग दिवस

By Prateek Saini

Jun, 21 2018 08:36:43 (IST)

दोनों तेलुगु राज्यों आंध्रप्रदेश और तेलंगाना में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस सरकारी और ग़ैर सरकारी स्तर पर मनाया गया...

(हैदराबाद):दोनों तेलुगु राज्यों आंध्रप्रदेश और तेलंगाना में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस सरकारी और ग़ैर सरकारी स्तर पर मनाया गया। दिलचस्प बात यह है कि टीडीपी ने बीजेपी के साथ अपना नाता तोड़ दिया था, जिसके कारण कोई भी केंद्रीय मंत्री अंतर्राष्ट्रीय योगा दिवस मनाने के लिए आंध्रप्रदेश नहीं पहुंचा। फिर भी मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने अमरावती में आयोजित समारोह में भाग लिया। पिछले साल उन्होंने विजयवाड़ा में आयोजित योग दिवस कार्यक्रम में भाग लिया था।

तेलंगाना में राजभवन के सांस्कृतिक सामुदायिक केंद्र में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस समारोह, राज्यपाल ई एस एल नरसिम्हन द्वारा आयोजित किया गया। केंद्रीय गृह राज्य मंत्री हंसराज अहीर कोमपल्ली ने शिव शिवानी स्कूल में हज़ारी लगाई, जबकि परिवहन राज्य मंत्री मनसुखलाल माण्डवीय गच्चीबौली स्टेडियम में योग के लिए पहुंचे। यहां तेलंगाना के उप मुख्यमंत्री महमूद अली ने सरकार का प्रतिनिधित्व किया। महानगर के जुबली हिल्स में तेलंगाना पुलिस ने और खूबसूरत हुसैन सागर झील पर तेलंगाना पर्यटन विभाग द्वारा योग कार्यक्रम आयोजित किए गए। बुद्ध की प्रतिमा के सामने योग करने का अलग ही आनंद लिया गया। पर्यटन विभाग के सचिव बी.वेंकटेशम ने बताया कि इसके आगे भी तेलंगाना टूरिज्म हुसैन सागर झील में योग कार्यक्रम आयोजित करने पर विचार कर रहा है।


पीएम ने किया योग की महिमा का बखान

योग दिवस के मौके पर पूरा विश्व योगमय दिखाई दिया। इधर देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देहरादून के वन अनुसंधान संस्थान (एफआरआई) के मैदान में 55000 लोगो के साथ योगाभ्यास किया गया। योग करने के बाद पीएम ने मंच से लोगों को योग की महिमा से रूबरू करवाया। मोदी ने कहा कि योग मानवता को जोड़ता है। प्रधानमंत्री ने कहा कि योग को पूरे विश्व ने स्वीकारा है। यूएन में सबसे कम समय में योग का प्रस्ताव स्वीकृत हुआ। पीएम ने कहा कि योग में बड़ी क्षमता है। यह जीवन को समृद्ध बनाता है। इस ही के साथ आत्मा,मन और शरीर को भी जोडे रखता है। योग जीवन में शांति की अनुभूति कराता है। पीएम ने यह भी कहा कि भारत योग की जन्मभूमि है। ऐसे में हमे अपनी इस विरासत पर गर्व होना चाहिए जिसने पूरी दुनिया को स्वास्थ की ओर अग्रसर किया है।