बाराबंकी नहर में फंसे अजीबोगरीब डॉल्फिन, ऐसे किया रेस्क्यू देखे वीडियो

|

Published: 24 Oct 2020, 01:42 PM IST

कई लोग डॉ‍ल्फिन को अक्सर मछली समझ लेते है, लेकिन डॉल्फिन मछली नहीं है। आपको यह जानकर हैरानी होगी कि वह व्हेल की तरह एक स्तनधारी प्राणी है। डॉल्फिन का रहने का ठिकाना समुद्र और नदियां हैं। हाल ही में उत्तर प्रदेश में एक अजीबोगरीब डॉल्फन को देखा गया। वह रास्ता भट गई और बाराबंकी नहर में आ कर फंस गई।

कई लोग डॉ‍ल्फिन को अक्सर मछली समझ लेते है, लेकिन डॉल्फिन मछली नहीं है। आपको यह जानकर हैरानी होगी कि वह व्हेल की तरह एक स्तनधारी प्राणी है। डॉल्फिन का रहने का ठिकाना समुद्र और नदियां हैं। हाल ही में उत्तर प्रदेश में एक अजीबोगरीब डॉल्फन को देखा गया। वह रास्ता भट गई और बाराबंकी नहर में आ कर फंस गई। हालांकि उत्तर प्रदेश वन विभाग और कछुआ उत्तरजीविता गठबंधन के स्टाफ सदस्यों ने मिलकर इस अजीबोगरीब डॉल्फिन को बचाया। टर्टल सर्वाइवल एलायंस की ओर से ट्विटर पोस्ट के अनुसार, 4.2 फुट लंबा नर डॉल्फिन रास्ता भटक गया और बाराबंकी में एक नहर में घंटों तक फंसा रहा।


वायरल हुई तस्वीरें
टर्टल सर्वाइवल एलायंस की टीम ने राज्य वन विभाग के साथ मिलकर संयुक्त ऑपरेशन में डॉल्फिन को सफलतापूर्वक बचाने और घाघरा नदी में छोड़ दिया। उन्होंने ट्विटर पर बचाव अभियान से तस्वीरें शेयर की है। यह फोटो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है। इस तस्वीरों में आप देख सकते हैं कि टीम के सदस्य समुद्री स्तनपायी पर पानी छिड़क रहे हैं, इसे एक स्ट्रेचर पर ले जा रहे हैं और इसे नदी में छोड़ देते हैं।

यह भी पढ़े :— कोरोना ने छीन ली नौकरी, स्कूटी पर ही खोल लिया ढाबा, दोस्त की भी की मदद

कंपन वाली निकालती है आवाज
आपको बता दें कि डॉल्फिन को अकेले रहना पसंद नहीं है। वह अधिकतर समूह में रहती है। इनके एक समूह में 10 से 12 सदस्य होते हैं। हमारे देश की गंगा नदी में डॉल्फिन पाई जाती है। लेकिन गंगा नदी में मौजूद डॉल्फिन अब विलुप्ति हो रही है। डॉल्फिन की एक बड़ी खासियत यह है कि यह कंपन वाली आवाज निकालती है जो किसी भी चीज से टकराकर वापस डॉल्फिन के पास आ जाती है।

यह भी पढ़े :— सिलबट्टे और फल बेचने वाली बनीं सब-इंस्पेक्टर, पढ़े महिला की संघर्ष और हिम्मत की कहानी

60 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से तैर सकती है
डॉल्फिन को शिकारी का आसानी से पता चल जाता है। डॉल्फिन को पता चल जाता है कि शिकार कितना बड़ा और कितने करीब है। डॉल्फिन आवाज और सीटियों के द्वारा एक दूसरे से बात करती हैं। यह 60 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से तैर सकती है। डॉल्फिन 10-15 मिनट तक पानी के अंदर रह सकती है लेकिन वह पानी के अंदर सांस नहीं ले सकती।