Corona के बाद चीन ने फैलाई एक और रहस्यमय बीमारी, कई अमेरिकी अफसर हुए बीमार !

|

Published: 22 Oct 2020, 05:22 PM IST

कोरोना वायरस के बाद चीन में एक नई रहस्यमयी बीमारी (Mysterious Disease) फैल रही है। ये बीमारी अबतक 20 से अधिक अमेरिका के राजनयिकों (American Diplomat) को अपना शिकार बना चुकी है।

नई दिल्ली। नई दिल्ली। इन दिनों पूरी दुनिया कोरोना वायरस (Coronavirus) का दंश झेल रही है। ताजे आकड़ों के मुताबिक 4.34 करोड़ से अधिक लोग वायरस से संक्रमित हो चुके हैं। वहीं 11.5 लाख से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। कोरोना वायरस सबसे पहले चीन में सामने आया था हालांकि बाद में वहां इसका प्रकोप कम हो गया। लेकिन अब चीन में फिर से एक नई बीमारी तेजी से फैलने लगी है।

COVID-19: जाने क्यों गधों को गले लगा रहे हैं कोरोना वॉरियर्स ?

 

जा रही है लोगों की याद्दाश्त

द न्यू यॉर्क टाइम्स ने अपनी एक रिपोर्ट में खुलासा किया है कि चीन में मौजूद अमेरिका के राजनयिक (American Diplomat) एक रहस्यमयी बीमारी का शिकार हो रहे हैं। इस बीमारी में किसी को याद्दाश्त जाने की शिकायत है तो किसी के नाक से खून बह रहा है।

नाक से बह रहा है खून

रिपोर्ट के मुताबिक चीन के ग्वांगझोऊ में अमेरिकी विदेश विभाग कार्यरत में लेनजी और उनकी पत्नी और उनके बच्चे सो रहे थे। जब उनकी नींद खुली तो सभी के सिर में तेज दर्द हो रहा और सबके नाक से खून बह रहा था। इसके कुछ दिन बाद इनकी याद्दाश्त भी कमजोर हो गई।

मास्क नहीं पहने वाले सावधान! एक बार यह वीडियो जरूर देखें

ट्रंप प्रशासन ने लगाए गंभीर आरोप

ऐसा केवल लेनजी के परिवार क साथ ही नहीं हो रहा है। कई अन्य अमेरिकी अधिकारी इस रहस्यमय बीमारी के शिकार हो रहे हैं। इससे पहले साल 2018 में ऐसी बीमारी की खबरे सामने आई थी। वहीं इस रहस्यमय बीमारी को लेकर ट्रंप प्रशासन का कहना है कि उनके राजनयिक चीन के अलावा, रूस, क्यूबा में भी इस तरह के रहस्यमय बीमारी की चपेट में आ रहे हैं। ऐस में उन्हें शक है कि देश पर किसी गुप्त हथियार और रासायनिक हथियार से हमला किया जा सकता है।

Corona: जानें किन तरीकों से किया जा सकता है कोरोनावायरस का इलाज

चीन ने नहीं दी कोई प्रतिक्रिया

रिपोर्ट के मुताबिक ट्रंप सरकार का कहना है कि साल 2018 से लेकर अब तक 20 से अधिक अधिकारी रहस्यमयी बीमारी का शिकार हो चुके हैं। ये बीमारी हवाना सिंड्रोम की तरह है। सरकार ने चीन पर इसे लेकर कई गंभीर आरोप भी लगाए हैं। हालांकि चीन की तरफ से अभी तक इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी गई है।