Latest News in Hindi

इस एप का उपयोग से आसान होगी चुनावी जीत

By rajendra parihar

Sep, 12 2018 09:35:43 (IST)

किसी काम में रूचि और लगातार मेहनत किसी भी व्यक्ति को कामयाब बना सकती है। शहर के युवा हेमंत मेहरा भी इसकी की एक मिसाल है। हेमंत ने १०वीं तक की पढ़ाई की लेकिन दर्जनों मोबाइल एप्लीकेशन प्रोग्राम बना डाले। मोबाइल एप में रूचि होने की वजह से हेमंत ने यू ट्यूब पर वीडियो देख ये एप तैयार किए हैं। हेमंत ने विधानसभा चुनाव के हिसाब से इलेक्शन कैम्पेन २०१८ एप तैयार किया है।

होशंगाबाद. किसी काम में रूचि और लगातार मेहनत किसी भी व्यक्ति को कामयाब बना सकती है। शहर के युवा हेमंत मेहरा भी इसकी की एक मिसाल है। हेमंत ने १०वीं तक की पढ़ाई की लेकिन दर्जनों मोबाइल एप्लीकेशन प्रोग्राम बना डाले। मोबाइल एप में रूचि होने की वजह से हेमंत ने यू ट्यूब पर वीडियो देख ये एप तैयार किए हैं। हेमंत ने विधानसभा चुनाव के हिसाब से इलेक्शन कैम्पेन २०१८ एप तैयार किया है। यह एप चुनाव लडऩे वाले प्रत्याशी के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। इस एप की सहायता से एक क्लिक पर 1 लाख एसएमएस, 1 लाख कॉल्स, लाइव पब्लिक पोल, लाइव भाषण, लाइव ब्रॉडकास्टिंग, प्रत्याशी का पूरा बायोडाटा सहित अन्य सुविधाएं इस एप के माध्यम से मिलेगी। साथ ही हेमंत द्वारा तैयार किए गए रिव्यू माय सिटी एप की सहायता से संभाग के सभी सरकारी कार्यालयों व अधिकारियों की ईमेल आईडी को लिंक किया गया है। इस एप की सहायता से कोई भी यूजर अपनी समस्या को सीधे अधिकारी तक पहुंचा सकता है। प्ले स्टोर से अभी तक लगभग ११० मोबाइल उपभोक्ता इस एप को डाउनलोड कर चुके हैं।
दिल्ली में हुआ था सम्मान
सूचना एवं प्रोद्योगिकी मंत्रालय द्वारा वर्ष २०१६ में देश में तकनीकी क्षेत्र में काम करने वाले १४ युवाओं का सम्मानित किया गया था। सम्मानित होने वाले युवाओं में शहर का हेमंत मेहरा का चयन भी हुआ था। दिल्ली के प्रगति मैदान में आयोजित समारोह में पूर्व केन्द्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री स्मृति ईरानी द्वारा हेमंत का सम्मान कर उन्हें सच्चे डिजीटल चैम्पीयन अवार्ड से सम्मानित किया था। हेमंत हाउसिंग बोर्ड के आदर्श नगर का निवासी है। अपनी इस उपलब्धि के पीछे हेमंत अपने पिता स्व. प्रभुदयाल मेहरा को आदर्श मानते हैं। पेशे से पटवारी पिता के २००५ में देहांत के बाद परिवार की जिम्मेदारी निभाने के लिए हेमंत से पढ़ाई छोड़ दी थी। बिना उच्च शिक्षा के रोजगार पाने की दिशा में हेमंत को एप बनाने का सबसे सरल लगा। उसने खुद ही यू ट्यूब की सहायता से एप बनाने की तकनीक में महारथ हासिल कर ली। हेमंत ने कैच द रनिंग घोस्ट, फिशिंग इन रेड सी, पेंगुइन शूट, लवर्स इन रिपन, शैल गेम कॉइन, चेक यूअर लक इन मशीन, रिव्यू माय सिटी, इलेक्शन केम्पेन २०१८ सहित अन्य एप तैयार किए हैं।
बॉक्स
छात्रा के बनाए प्रोग्राम हुए प्रचलित-फोटो एचडी१२४४
होमसाइंस कॉलेज में बीएससी(कम्प्यूटर साइंस) की पूर्व छात्रा वंशिका यादव ने नर्मदा कॉलेज में आयोजित एप डेवलपमेंट प्रोग्राम में शामिल हुईं थी। प्रशिक्षण लेने के बाद छात्रा का चयन आईआईटी चैन्नई में ट्रेनिंग के लिए हुआ था। ट्रेनिंग के बाद छात्रा ने कैल्कुलेटर, म्यूजिक प्लेयर, फॉर्म डिजाइन व फॉर्म लिंकिंग एप तैयार किए। वंशिका द्वारा तैयार किए गए एप तैयार किए। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के स्वच्छ भारत अभियान के तहत हुई कैम्पेन में वंसिका द्वारा बनाई गई शॉर्ट फिल्म प्रोग्राम को राष्ट्रीय फिल्म विकास परिषद(एनएफडीसी) द्वारा पुरस्कृत किया गया था। वंसिका वर्तमान में एमसीए कर रही हैं।