Latest News in Hindi

सड़क नहीं बनी तो ग्रामीण करेंगे चुनाव का बहिष्कार, सौंपा ज्ञापन

By govind chouhan

Sep, 12 2018 06:19:00 (IST)

दो हजार आबादी के चार गांव के छात्र-छात्राएं नहीं जा पा रहे स्कूल, मरीज,गर्भवती महिलाओं को होना पड़ता है परेशान

सड़क नहीं बनी तो ग्रामीण करेंगे चुनाव का बहिष्कार, सौंपा ज्ञापन

पिपरिया. विधान सभा क्षेत्र में विकास निर्माण के दावों के बीच आदिवासी ग्राम पंचायत पिसुआ के ग्रामीण सात किमी दलदल मार्ग में फंसे है। परेशान एक सैकड़ा ग्रामीण मुख्यमंत्री सड़क मार्ग को पक्का कराने सरपंच के नेतृत्व में रैली लेकर तहसील पहुंचे और पक्की सड़क नहीं बनने पर चुनाव बहिष्कार की चेतावनी दी। शहर से करीब ३० किमी दूर आदिवासी ग्राम पंचायत पिसुआ है इससे चार गांव जुड़े हैं। १२00 मतदाता और करीब दो हजार आबादी की ग्राम पंचायत में सात किमी मुख्यमंत्री सड़क योजना के तहत कच्चा मुरम मार्ग बनाया गया है। बारिश में यह मार्ग कीचड़ से दलदल बन गया है। वाहन तक नहीं निकल पा रहे हैं। जिससे शहर और मटकुली से ग्रामीण, स्कूली विद्यार्थियों का संपर्क कट गया है। मरीज, गर्भवती महिलाओं को लाने ले जाने परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। सरपंच लक्ष्मी बाई यादव के नेतृत्व में ग्रामीणों ने सड़क बनाने की मांग को लेकर ज्ञापन सौंपा है। ग्रामीणों का कहना है कि कच्चा मार्ग २०१२-१३ में बना था इसका डामरीकरण हो जाना चाहिए था लेकिन ग्राम पंचायत में प्रस्ताव लेने के बाद शासन प्रशासन ने सात किमी मार्ग निर्माण कराने की कोई पहल नही ंकी है।

सड़क नहीं मिली तो करेंगे चुनाव का बहिष्कार
सरपंच लक्ष्मीबाई यादव का कहना था कि सैकड़ों ग्रामीण सड़क नहीं बनने से परेशान हंै सभी को अवगत करा चुके हैं। ज्ञापन के बाद भी यदि कच्चा मार्ग पक्का नहीं बना तो आगामी चुनाव में मतदान का बहिष्कार करने का निर्णय ग्रामीणों ने लिया है।

गांव का खराब हैंडपंप सुधारने गया वाहन कीचड़ में फंसा
ग्राम में हैंडपंप खराब पड़े है जिससे सीमित हैंडपंपों से पेयजल की व्यवस्था ग्रामीण कर रहे हैं। हैंड पंप सुधार के लिए गया वाहन दलदल में फंस गया जिसे ग्रामीणों की मदद से बमुश्किल ट्रैक्टर से खींच कर बाहर निकाला गया।

इनका कहना है..
सरपंच सहित ग्रामीणों ने सड़क निर्माण का ज्ञापन दिया है। संबंधित विभाग को ग्रामीणों की मांग से अवगत कराया जाएगा। जनपद,जिपं सीइओ को उचित कार्रवाई के लिए ज्ञापन भेजा जाएगा।
- राजीव कहार, तहसीलदार