आज है आमला एकादशी, ये रहेंगे आज के शुभ मुहूर्त

|

Published: 26 Feb 2018, 09:55 AM IST

1/3

एकादशी नन्दा संज्ञक तिथि सायं ५.२९ तक, तदुपरान्त द्वादशी भद्रा संज्ञक तिथि है। एकादशी तिथि में वैसे यज्ञोपवीत, विवाहादि मांगलिक कार्य, देवकार्य, गृहारम्भ, प्रवेश, यात्रा, सवारी, अलंकार, व्रतोपवास आदि कार्य और द्वादशी में विवाहादि मांगलिक कार्यों सहित अलंकारादि कार्य शुभ कहे गए हैं। पर अभी होलाष्टक में मांगलिक कार्यादि शुभ नहीं माने गए हैं। नक्षत्र: आद्र्रा ‘तीक्ष्ण व ऊध्र्वमुख’ संज्ञक नक्षत्र प्रात: ८.०३ तक, तदन्तर अंतरात्रि सूर्योदय पूर्व प्रात: ६ बजे तक पुनर्वसु ‘चर व तिङ्र्यंमुख’ संज्ञक नक्षत्र है। पुनर्वसु नक्षत्र में शांति, पुष्टता, यात्रा, अलंकार, घर, व्रतादि, सवारी, कृषि व विद्यादि कार्य शुभ कहे गए हैं। योग: आयुष्मान नामक योग सायं ६.२० तक, तदुपरान्त सौभाग्य नामक योग है। दोनों ही नैसर्गिक शुभ योग हैं। विशिष्ट योग: रवियोग नामक दोष समूह नाशक शक्तिशाली शुभ योग प्रात: ८.०३ तक, कुमार योग प्रात: ८.०३ से सायं ५.२९ तक तथा सर्वार्थसिद्धि नामक शुभ योग अंतरात्रि ६.०० से अगले दिन सूर्योदय तक है। करण: भद्रा संज्ञक विष्टि नाम करण सायं ५.२९ तक, इसके बाद बवादि करण हैं।