कैंसर बायोमार्कर की पहचान के लिए भारतवंशी शोधकर्ता पुरस्कृत

|

Updated: 12 Sep 2018, 11:22 AM IST

1/2

अमरीकी राष्ट्रीय कैंसर संस्थान ने मिशिगन विश्वविद्यालय के प्रोफेसर अरुल चिन्नैयां को 'आउटस्टैंडिंग इन्वेस्टीगेटर अवॉर्ड' प्रदान किया है और कैंसर के निदान में सुधार व नए उपचार के विकास के लिए बायोमार्कर की पहचान के लिए सात साल के वित्त पोषण के लिए 65 लाख डॉलर की राशि दी है। चिन्नैयां ने सोमवार को एक बयान में कहा, आंकोलॉजी का क्षेत्र कैंसर रोगियों के बढऩे के साथ उन्हें नैदानिक और बेहतर उपचार देने के लक्ष्य के साथ विकसित हो रहा है।उन्होंने कहा, यह अनुदान हमें नए बायोमार्करों की खोज व कैंसर की वृद्धि में उनकी जैविक भूमिका में समझने में मदद देगा।

Related Stories