Latest News in Hindi

Ganesh chaturthi 2018 : शहर में सजे पांडाल,कल घर-घर विराजेंगे श्रीजी,ये है शुभ मुहूर्त

By monu sahu

Sep, 12 2018 12:37:36 (IST)

Ganesh chaturthi 2018 : शहर में सजे पांडाल,कल घर-घर विराजेंगे श्रीजी,ये है शुभ मुहूर्त

Ganesh chaturthi 2018 : शहर में सजे पांडाल,कल घर-घर विराजेंगे श्रीजी,ये है शुभ मुहूर्त

ग्वालियर। गणेश चतुर्थी को भारत के विभिन्न हिस्सों में अनेकों रूपों में मनाई जाती है। हिन्दू धर्म के अनुसार इसी दिन भागवान गणेश का जन्म हुआ था। भागवान गणेश के जन्मोत्सव के रूप में इस त्योहार को बड़े धूमधाम से मनाया जाता है। ग्वालियर चंबल संभाग के इलाकों में तो गणेश चतुर्थी के बाद 10 दिनों तक लगातार गणेशोत्सव मनाया जाता है। भक्त इस दौरान अपने-अपने घरों में भागवान गणेश की प्रतिमा स्थापित कर भक्ति भाव से दस दिनों तक विघ्नहर्ता श्री गणेश की पूजा करते हैं।

यह भी पढ़ें : बड़ी खबर : संविदा शिक्षकों के भर्ती शुरू,आधार कार्ड नहीं तो फार्म नहीं भर सकेंगें,ये है नियम

13 सितंबर को गणेश चतुर्दशी पर श्रीजी घरों और सार्वजनिक स्थानों पर वैदिक विधि विधान से विराजमान होंगे। यह उत्सव दस दिन अनंत चतुर्दशी तक चलेगा। श्रीजी के आगमन को लेकर पांडाल सजधज कर तैयार हो चुके हैं। श्री गणेश उत्सव को लेकर मोटे गणेश मंदिर, शिंदे की छावनी स्थित गणेश मंदिर एवं बहोड़ापुर क्षेत्र स्थित गणेश मंदिर पर तैयारियां पूरी कर ली गई हैं।

यह भी पढ़ें : एम्स में चेकअप कराने जा रहे रिटायर्ड सूबेदार की मौत,बेटा व गार्ड भी घायल

यहां गणेशजी का अभिषेक किया जाएगा, इसके बाद हर रोज विधि-विधान से पूजा-अर्चना होगी। इसके अलावा दाल बाजार, कंपू, महाराज बाड़ा, सराफा बाजार, जीवाजीगंज, जनकगंज, माधौगंज, दौलतगंज, शिन्दे की छावनी, थाटीपुर, हजीरा, किलागेट, बारादरी, सदर बाजार, बहोड़ापुर में पांडाल सजाए जाएंगे।

यह भी पढ़ें : पानी पर तनाव : बरई में किसानों ने तोड़ी नहर,विधायक फिर पानी ले गए हिम्मतगढ़

अचलेश्वर पर सबसे बड़ी प्रतिमा
शहर में सबसे बड़ी प्रतिमा श्री अचलेश्वर महादेव मंदिर 16 फीट ऊंची स्थापित होगी। कलकत्ता और झांसी के कलाकार बीस दिन से प्रतिमा तैयार कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें : MP में यहां खुलेआम बनाया जा रहा है नकली डीजल,पेट्रोल-डीजल लेने से पहले जरूर पढ़ें ये खबर

1 घंटे 10 मिनट शुभ मुहूर्त
पंडित वाचस्पति शास्त्री के मुताबिक सुबह 11.30 से 12.40 बजे तक पूजन कर स्थापित करना शुभ है। गणेश जी की पूजा अर्चना में मोदक का भोग लगाए और गं गणपतये नम: का जाप करें।